Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Nov 2023 · 1 min read

स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?

आमतौर पर एक महिला पुरुष से सुरक्षा, दोस्ती, समझ, सम्मान चाहती है ।

एक महिला सिर्फ गुलाब का फूल देने वाला ही नहीं चाहती, वह गोभी का फूल देने वाला भी चाहती है। ( जिम्मेदार पुरुष )

वह सिर्फ चॉकलेट देने वाला ही नही चाहती, जब वह थक जाए, उसे चाय या कॉफी पिलाने वाला भी चाहती है। (देखभाल)

वह सिर्फ प्रेम ही देने वाला नहीं चाहती, वह बिना किसी संदेह के एक स्वतंत्र दाता भी चाहती है। ( विश्वास )

वह सिर्फ घड़ी देने वाला ही नहीं चाहती, समय देने वाला भी चाहती है। ( प्राथमिकता/अटेंशन देना)

वह न केवल अच्छे सेंस ऑफ ह्यूमर वाला व्यक्ति चाहती है, बल्कि ऐसा व्यक्ति भी चाहती है जो उसे जीवन भर खुश रखे। (सच्चा जीवन साथी)

धन, सुन्दर और बलवान ये सब भौतिक चीजें हैं और इनसे काम नहीं चलता, लेकिन उसे परिपक्वता, अच्छा स्वभाव, साहस आदि जैसी आंतरिक चीजों की जरूरत होती है , इन चीजों से एक महिला के जीवन में आत्मीयता आती है।
(परिपक्वता)

महिलाएं पुरुषों से इन नियमों और शर्तों का पालन करने की उम्मीद करती हैं, लेकिन माएं और बहनें ये दो माताएं कभी भी पुरुषों को कठपुलतियां नहीं बनातीं। उन्हें बस यही उम्मीद है कि वे खुश रहें।

1 Like · 173 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
"ऐसा है अपना रिश्ता "
Yogendra Chaturwedi
*कहा चैत से फागुन ने, नव वर्ष तुम्हारा अभिनंदन (गीत)*
*कहा चैत से फागुन ने, नव वर्ष तुम्हारा अभिनंदन (गीत)*
Ravi Prakash
एक दिन तो कभी ऐसे हालात हो
एक दिन तो कभी ऐसे हालात हो
Johnny Ahmed 'क़ैस'
दीवारें खड़ी करना तो इस जहां में आसान है
दीवारें खड़ी करना तो इस जहां में आसान है
Charu Mitra
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
शायरी - ग़ज़ल - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
Paras Nath Jha
Hello Sun!
Hello Sun!
Buddha Prakash
व्यथा दिल की
व्यथा दिल की
Devesh Bharadwaj
"सुख के मानक"
Dr. Kishan tandon kranti
जय संविधान...✊🇮🇳
जय संविधान...✊🇮🇳
Srishty Bansal
⭕ !! आस्था !!⭕
⭕ !! आस्था !!⭕
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
💐 Prodigi Love-47💐
💐 Prodigi Love-47💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*सुनकर खबर आँखों से आँसू बह रहे*
*सुनकर खबर आँखों से आँसू बह रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
23/55.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/55.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
Rajesh Kumar Arjun
कर ले प्यार हरि से
कर ले प्यार हरि से
Satish Srijan
घर से बेघर
घर से बेघर
Punam Pande
सच ही सच
सच ही सच
Neeraj Agarwal
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
Surinder blackpen
लोकतंत्र को मजबूत यदि बनाना है
लोकतंत्र को मजबूत यदि बनाना है
gurudeenverma198
प्रिंट मीडिया का आभार
प्रिंट मीडिया का आभार
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
बहरों तक के कान खड़े हैं,
बहरों तक के कान खड़े हैं,
*Author प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
प्राण vs प्रण
प्राण vs प्रण
Rj Anand Prajapati
किताबे पढ़िए!!
किताबे पढ़िए!!
पूर्वार्थ
राह पर चलना पथिक अविराम।
राह पर चलना पथिक अविराम।
Anil Mishra Prahari
सबक
सबक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
“निर्जीव हम बनल छी”
“निर्जीव हम बनल छी”
DrLakshman Jha Parimal
Loading...