Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Aug 2023 · 2 min read

कछुआ और खरगोश

कछुआ और खरगोश

नंदनवन में एक खरगोश रहता था। नाम था उसका- चिपकू। चिपकू बहुत घमंडी, बड़बोला तथा चटोरा था। एक दिन वह एक पेड़ के नीचे बैठा आराम कर रहा था। उधर से लोमड़ी मौसी गुजरीं। दुआ सलाम के बाद मौसी बोली- ‘‘क्या बात है बेटा चिपकू ! कुछ परेशान से लग रहे हो।’’
चिपकू बोला- ‘‘क्या बताऊँ मौसी जी, सालों पहले एक पूर्वज ने हमारी नाक कटा के रख दी है। हमारी गिनती संसार के सबसे तेज दौड़ने वालों में होती है, पर एक कछुआ से हारकर उसने हमारी इज्जत मिट्टी में मिला दी है।’’
लोमड़ी मौसी बोेलीं- ‘‘बेटा चिपकू, यदि तुम चाहो तो इस कलंक को मिटा सकते हो।’’
चिपकू ने आश्चर्य से पूछा- ‘‘वो कैसे मौसी जी ?’’
लोमड़ी मौसी बोलीं- ‘‘एक बार फिर कछुआ के साथ दौड़ लगाओ और उसे हराकर इस कलंक को हमेशा के लिए धो डालो।’’
चिपकू ने पूछा- ‘‘क्या ऐसा हो सकता है मौसी ?’’
लोमड़ी मौसी बोेलीं- ‘‘हाँ-हाँ क्यों नहीं।’’
चिपकू प्रसन्नता से बोला- ‘‘मौसी, यदि तुम एक बार फिर कछुआ को दौड़ के लिए राजी कर दो, तो मैं ही नहीं, पूरी कछुआ जाति आपका अहसान मानेगी।’’
लोमड़ी मौसी बोली- ‘‘ठीक है, मैं कोशिश करती हूँ।’’
लोमड़ी मौसी कछुआ के पास गई। पहले तो वह ना-नुकूर करता रहा पर लोमड़ी मौसी के बार-बार उकसाने और धिक्कारने पर दौड़ने के लिए राजी हो गया।
निश्चित दिन और समय पर दौड़ शुरु हुआ। महाराज शेर सिंह इसके निर्णयक बने। मुकाबला देखने के लिए जंगल लाखों जानवर इकट्ठे हुए थे। महामंत्री गजपति नाथ ने हरी झंडी दिखाकर दौड़ शुरु करवाई।
खरगोश बहुत तेज दौड़ा। कुछ दूर जाने के बाद उसने पीछे मुड़कर देखा तो कछुआ नहीं दिखा, पर चने के हरे भरे खेत दीख गए। वह खुद को न रोक सका। चने तोड़ तोड़कर जल्दी-जल्दी खाने लगा। थोड़ी देर बाद उसे चक्कर आने लगा और वह बेहोश हो गया।
उधर कछुआ ने धीरे-धीरे चलकर दौड़ पूरा कर लिया।
महाराज शेरसिंह ने उसे विजेता घोषित कर पुरस्कृत किया।
कीड़ों से बचाने के लिए किसान ने चने के खेत में कीटनाशक दवाई का छिड़काव किया था। बिना साफ किए खाने से कुछ दवाई चिपकू खरगोश के पेट में चली गई थी।
देर रात जब उसेे होश आया तो वह समझ गया कि एक बार फिर बाजी हार चुका है।
डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

243 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे हमसफ़र ...
मेरे हमसफ़र ...
हिमांशु Kulshrestha
'मौन का सन्देश'
'मौन का सन्देश'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
धूमिल होती यादों का, आज भी इक ठिकाना है।
Manisha Manjari
संस्कारों के बीज
संस्कारों के बीज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कविता
कविता
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
प्रदूषन
प्रदूषन
Bodhisatva kastooriya
*** सैर आसमान की....! ***
*** सैर आसमान की....! ***
VEDANTA PATEL
बेटी
बेटी
Vandna Thakur
जीवन का जीवन
जीवन का जीवन
Dr fauzia Naseem shad
बहुत हुआ
बहुत हुआ
Mahender Singh
तेरी हर अदा निराली है
तेरी हर अदा निराली है
नूरफातिमा खातून नूरी
*दर्द का दरिया  प्यार है*
*दर्द का दरिया प्यार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अपनी घड़ी उतार कर किसी को तोहफे ना देना...
अपनी घड़ी उतार कर किसी को तोहफे ना देना...
shabina. Naaz
कमी नहीं थी___
कमी नहीं थी___
Rajesh vyas
नारी जीवन
नारी जीवन
Aman Sinha
हमेशा भरा रहे खुशियों से मन
हमेशा भरा रहे खुशियों से मन
कवि दीपक बवेजा
रब करे हमारा प्यार इतना सच्चा हो,
रब करे हमारा प्यार इतना सच्चा हो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मेरा शहर
मेरा शहर
विजय कुमार अग्रवाल
तो जानो आयी है होली
तो जानो आयी है होली
Satish Srijan
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
जुबां बोल भी नहीं पाती है।
नेताम आर सी
पिता
पिता
sushil sarna
जब तात तेरा कहलाया था
जब तात तेरा कहलाया था
Akash Yadav
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
Neeraj Agarwal
पूर्ण-अपूर्ण
पूर्ण-अपूर्ण
Srishty Bansal
मैं तो महज नीर हूँ
मैं तो महज नीर हूँ
VINOD CHAUHAN
"बखान"
Dr. Kishan tandon kranti
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
बस्ती जलते हाथ में खंजर देखा है,
ज़ैद बलियावी
बालको से पग पग पर अपराध होते ही रहते हैं।उन्हें केवल माता के
बालको से पग पग पर अपराध होते ही रहते हैं।उन्हें केवल माता के
Shashi kala vyas
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*मेले में ज्यों खो गया, ऐसी जग में भीड़( कुंडलिया )*
*मेले में ज्यों खो गया, ऐसी जग में भीड़( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
Loading...