Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2023 · 1 min read

सोशल मीडिया पर हिसाबी और असंवेदनशील लोग

दुनिया में हिसाबी लोग ज्यादा हैं। फेसबुक, ट्वीटर, इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया पर भी। जिन्हें आप अच्छा समझते हैं, होशियार समझते हैं, बुद्धिजीवी समझते हैं, प्रगतिशील समझते हैं वे अक्सर अधिक बेहूदे होते हैं, ज्यादा मतलबी और वृथा गुरूर पालने वाले अहंकारी जीव होते हैं।
फेसबुक पर like और comment करने के मामले में ऐसे शातिर जन ज्यादा राजनीति करते हैं, देखभाल कर डग भरते हैं। बहुत ही छवि-कॉन्सस होते हैं। ये आम-अकिंचन जनों की बात कर बड़े तो बन लेंगे पर ऐसे जनों की फेसबुक स्टेटस को सदा उपेक्षा की दृष्टि से ही देखेंगे। चेलों और तलवाचाटों की फ़ौज अपनी फ्रेंडलिस्ट में रखेंगे। इन बेहूदों को जानो-पहचानो, हो सके तो इनकी राजनीति को नंगा करो। आप अकिंचन का कुछ नहीं बिगड़ने वाला, लेकिन इन सभ्य बेहूदों का आप बहुत कुछ बिगाड़ सकते हैं।

Language: Hindi
290 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr MusafiR BaithA
View all
You may also like:
हिम बसंत. . . .
हिम बसंत. . . .
sushil sarna
यह तो बाद में ही मालूम होगा
यह तो बाद में ही मालूम होगा
gurudeenverma198
करिए विचार
करिए विचार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
परिपक्वता (maturity) को मापने के लिए उम्र का पैमाना (scale)
परिपक्वता (maturity) को मापने के लिए उम्र का पैमाना (scale)
Seema Verma
मजहब
मजहब
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्यार का पंचनामा
प्यार का पंचनामा
Dr Parveen Thakur
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
VINOD CHAUHAN
बहुत ही महंगा है ये शौक ज़िंदगी के लिए।
बहुत ही महंगा है ये शौक ज़िंदगी के लिए।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
वक्त
वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
* लोकार्पण *
* लोकार्पण *
surenderpal vaidya
शिव ताण्डव स्तोत्रम् का भावानुवाद
शिव ताण्डव स्तोत्रम् का भावानुवाद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
है खबर यहीं के तेरा इंतजार है
है खबर यहीं के तेरा इंतजार है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हाँ प्राण तुझे चलना होगा
हाँ प्राण तुझे चलना होगा
Ashok deep
जिनके पास अखबार नहीं होते
जिनके पास अखबार नहीं होते
Surinder blackpen
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
रात अज़ब जो स्वप्न था देखा।।
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
■ छोड़ो_भी_यार!
■ छोड़ो_भी_यार!
*Author प्रणय प्रभात*
प्रकृति का अनुपम उपहार है जीवन
प्रकृति का अनुपम उपहार है जीवन
Er. Sanjay Shrivastava
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
हमेशा सही के साथ खड़े रहें,
नेताम आर सी
अच्छा लगने लगा है !!
अच्छा लगने लगा है !!
गुप्तरत्न
हे गर्भवती !
हे गर्भवती !
Akash Yadav
मौसम नहीं बदलते हैं मन बदलना पड़ता है
मौसम नहीं बदलते हैं मन बदलना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
आलोचक सबसे बड़े शुभचिंतक
आलोचक सबसे बड़े शुभचिंतक
Paras Nath Jha
*सुवासित हैं दिशाऍं सब, सुखद आभास आया है(मुक्तक)*
*सुवासित हैं दिशाऍं सब, सुखद आभास आया है(मुक्तक)*
Ravi Prakash
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
Dr MusafiR BaithA
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मतलबी इंसान हैं
मतलबी इंसान हैं
विक्रम कुमार
राधा अष्टमी पर कविता
राधा अष्टमी पर कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
मैं कहता आंखन देखी
मैं कहता आंखन देखी
Shekhar Chandra Mitra
Loading...