Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Aug 2023 · 1 min read

“सोज़-ए-क़ल्ब”- ग़ज़ल

इक तबस्सुम को, हम नज़रों मेँ, लिए बैठे हैं,
अश्क़, उसके हैं, सो मुद्दत से, पिए बैठे हैं।

हमको, बातिल से, हमेशा से, है रही नफ़रत,
क्या बताएँ भी, कि दिल, किसको दिए बैठे हैं।

पूछते सब हैं, कि आख़िर, हमें हुआ क्या है,
सोज़-ए-क़ल्ब, को हम, ज़ब्त, किए बैठे हैं।

उसका रुसवा, नहीं मँज़ूर, किसी हाल हमें,
लबों को अपने, इक अहद से, सिए बैठे हैं।

दुश्मनी, दोस्त निभाएंगे, कहाँ तक हमसे,
दर्द को उसके, ज़माने से, जिए बैठे हैं l

तीरगी का, न कोई ख़ौफ़, अब हमें “आशा”,
दिल मेँ चाहत के, जलाकर के, दिये बैठे हैं..!

तबस्सुम # मनमोहक मुस्कान, a pleasant smile
बातिल # झूठ, false
सोज़-ए-क़ल्ब, # दिल का दर्द, agony of heart
ज़ब्त # बर्दाश्त, restrain
रुसवा # बदनामी, insult
अहद # एक दीर्घ अन्तराल, a pretty long interval
तीरगी # अन्धकार, darkness

4 Likes · 4 Comments · 179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
हर लम्हे में
हर लम्हे में
Sangeeta Beniwal
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Meera Singh
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
हँसते - रोते कट गए , जीवन के सौ साल(कुंडलिया)
हँसते - रोते कट गए , जीवन के सौ साल(कुंडलिया)
Ravi Prakash
■ कविता-
■ कविता-
*Author प्रणय प्रभात*
अपनी सोच का शब्द मत दो
अपनी सोच का शब्द मत दो
Mamta Singh Devaa
*सूनी माँग* पार्ट-1
*सूनी माँग* पार्ट-1
Radhakishan R. Mundhra
जमाने की साजिशों के आगे हम मोन खड़े हैं
जमाने की साजिशों के आगे हम मोन खड़े हैं
कवि दीपक बवेजा
अपने योग्यता पर घमंड होना कुछ हद तक अच्छा है,
अपने योग्यता पर घमंड होना कुछ हद तक अच्छा है,
Aditya Prakash
चलो बनाएं
चलो बनाएं
Sûrëkhâ Rãthí
कोई कैसे ही कह दे की आजा़द हूं मैं,
कोई कैसे ही कह दे की आजा़द हूं मैं,
manjula chauhan
इकांत बहुत प्यारी चीज़ है ये आपको उससे मिलती है जिससे सच में
इकांत बहुत प्यारी चीज़ है ये आपको उससे मिलती है जिससे सच में
पूर्वार्थ
आज के युग में नारीवाद
आज के युग में नारीवाद
Surinder blackpen
पहले जैसा अब अपनापन नहीं रहा
पहले जैसा अब अपनापन नहीं रहा
Dr.Khedu Bharti
कुछ राज, राज रहने दो राज़दार।
कुछ राज, राज रहने दो राज़दार।
डॉ० रोहित कौशिक
विध्वंस का शैतान
विध्वंस का शैतान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
रंगो का है महीना छुटकारा सर्दियों से।
रंगो का है महीना छुटकारा सर्दियों से।
सत्य कुमार प्रेमी
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मुझको शिकायत है
मुझको शिकायत है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"किनारे से"
Dr. Kishan tandon kranti
शादी की अंगूठी
शादी की अंगूठी
Sidhartha Mishra
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
तुम हकीकत में वहीं हो जैसी तुम्हारी सोच है।
Rj Anand Prajapati
हे राम,,,,,,,,,सहारा तेरा है।
हे राम,,,,,,,,,सहारा तेरा है।
Sunita Gupta
जब जब भूलने का दिखावा किया,
जब जब भूलने का दिखावा किया,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
रमेशराज की पत्नी विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पत्नी विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
फिरकापरस्ती
फिरकापरस्ती
Shekhar Chandra Mitra
कभी जब देखोगी तुम
कभी जब देखोगी तुम
gurudeenverma198
हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है
हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है
Pratibha Pandey
जिस दिन तुम हो गए विमुख जन जन से
जिस दिन तुम हो गए विमुख जन जन से
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
💐अज्ञात के प्रति-134💐
💐अज्ञात के प्रति-134💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...