Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Feb 2024 · 1 min read

सोचना नहीं कि तुमको भूल गया मैं

सोचना नहीं कि तुमको भूल गया मैं।
महज कुछ समय के लिए बिछुड़ गया मैं।।
आऊँगा तुमसे मिलने तुम्हारे शहर मैं।
महज कुछ समय के लिए बिछुड़ गया मैं।।
सोचना नहीं कि ———————–।।

कैसे भूलूंगा गलियां तेरे शहर की।
मुलाकातें प्यार की वो तेरे घर की।।
तेरी शरारत और तेरी रुलाई को।
मुझसे बचने की तेरी छिपाई को।।
सोचना नहीं कि ———————-।।

वादा किया है साथ उम्रभर निभाने का।
अपना प्यार मैंने अमर बनाने का।।
तुम्हें खोज लूंगा मैं इस जहाँ में।
जाने नहीं दूँगा तुम्हें किसी की बाँह में।।
सोचना नहीं कि ———————–।।

अभी तक है मेरे पास कल को लिखे खत।
पढ़ता हूँ इनको मैं मिलने पे फुरसत।।
तुमने भी पढ़ें हैं खत ये, हाथों से छीनकर।
भूला नहीं सकते मुझको, तुम भी चाहकर।।
सोचना नहीं कि ————————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ़ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Adha's quote
Adha's quote
Adha Deshwal
तू सरिता मै सागर हूँ
तू सरिता मै सागर हूँ
Satya Prakash Sharma
अपनी इस तक़दीर पर हरपल भरोसा न करो ।
अपनी इस तक़दीर पर हरपल भरोसा न करो ।
Phool gufran
पड़ोसन ने इतरा कर पूछा-
पड़ोसन ने इतरा कर पूछा- "जानते हो, मेरा बैंक कौन है...?"
*Author प्रणय प्रभात*
गुहार
गुहार
Sonam Puneet Dubey
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
गीत लिखूं...संगीत लिखूँ।
Priya princess panwar
!..................!
!..................!
शेखर सिंह
"एहसासों के दामन में तुम्हारी यादों की लाश पड़ी है,
Aman Kumar Holy
'लक्ष्य-1'
'लक्ष्य-1'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*बाल गीत (सपना)*
*बाल गीत (सपना)*
Rituraj shivem verma
वर्तमान परिदृश्य में महाभारत (सरसी)
वर्तमान परिदृश्य में महाभारत (सरसी)
नाथ सोनांचली
*बहती हुई नदी का पानी, क्षण-भर कब रुक पाया है (हिंदी गजल)*
*बहती हुई नदी का पानी, क्षण-भर कब रुक पाया है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
दो शे'र ( अशआर)
दो शे'र ( अशआर)
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
జయ శ్రీ రామ...
జయ శ్రీ రామ...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
डरने कि क्या बात
डरने कि क्या बात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रामलला
रामलला
Saraswati Bajpai
पिता का पेंसन
पिता का पेंसन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
लिट्टी छोला
लिट्टी छोला
आकाश महेशपुरी
आजमाइश
आजमाइश
AJAY AMITABH SUMAN
*जलते हुए विचार* ( 16 of 25 )
*जलते हुए विचार* ( 16 of 25 )
Kshma Urmila
उत्तर
उत्तर
Dr.Priya Soni Khare
Life is like party. You invite a lot of people. Some leave e
Life is like party. You invite a lot of people. Some leave e
पूर्वार्थ
महंगाई के इस दौर में भी
महंगाई के इस दौर में भी
Kailash singh
राम तेरी माया
राम तेरी माया
Swami Ganganiya
23/110.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/110.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गौ माता...!!
गौ माता...!!
Ravi Betulwala
रूप तुम्हारा,  सच्चा सोना
रूप तुम्हारा, सच्चा सोना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"सोचिए जरा"
Dr. Kishan tandon kranti
संन्यास के दो पक्ष हैं
संन्यास के दो पक्ष हैं
हिमांशु Kulshrestha
शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana ने हितग्राही कार्ड अभियान के तहत शासन की योजनाओं को लेकर जनता से ली राय
शुभम दुष्यंत राणा shubham dushyant rana ने हितग्राही कार्ड अभियान के तहत शासन की योजनाओं को लेकर जनता से ली राय
Bramhastra sahityapedia
Loading...