Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2016 · 1 min read

“सोचकर देखो”

युग बदल रहा है तुम भी जरा बदल कर देखो,
मोह माया से दूर कहीं सीधे चलकर देखो !
———————————–
वक्त का सुरुर बहुत कुछ है कहता यहाँ,
मंज़िल है कहाँ तुम बस ये सोचकर देखो !
——————————–
आयेगा वक्त इस कदर तुम्हारा भी कभी ,
बडे हो गये हो ज़रा बडा सोचकर तो देखो!
———————————–
मिलेगा यहाँ फरिश्ते की तरह कोई,
अबकी बार भरोसा करके देखो !
——————————-
खुदा ने भेजा है तुम्हे किसी अच्छे के लिये यहाँ,
इस कदर कभी खुद को समझकर तो देखो !
————————————
आस्था भी निराधार भक्ति भी जरुरी यहाँ ,
सयंम कभी तो कभी खुद को शांत करके तो देखो !
————————————-
बदल गया यहाँ बहुत कुछ यहाँ ,
खुद को भरी नींद से ज़गा कर तो देखो !

Language: Hindi
1 Like · 425 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ दास्य भाव के शिखर पुरूष गोस्वामी तुलसीदास
■ दास्य भाव के शिखर पुरूष गोस्वामी तुलसीदास
*Author प्रणय प्रभात*
मौसम खराब है
मौसम खराब है
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
आँखों से भी मतांतर का एहसास होता है , पास रहकर भी विभेदों का
DrLakshman Jha Parimal
श्री राम का जीवन– गीत
श्री राम का जीवन– गीत
Abhishek Soni
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
गृहस्थ संत श्री राम निवास अग्रवाल( आढ़ती )
Ravi Prakash
#है_तिरोहित_भोर_आखिर_और_कितनी_दूर_जाना??
#है_तिरोहित_भोर_आखिर_और_कितनी_दूर_जाना??
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*
*"तिरंगा झंडा"*
Shashi kala vyas
एक तूही दयावान
एक तूही दयावान
Basant Bhagawan Roy
जो ना होना था
जो ना होना था
shabina. Naaz
" जलाओ प्रीत दीपक "
Chunnu Lal Gupta
💐अज्ञात के प्रति-75💐
💐अज्ञात के प्रति-75💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"गजब के नजारे"
Dr. Kishan tandon kranti
Humiliation
Humiliation
AJAY AMITABH SUMAN
So, blessed by you , mom
So, blessed by you , mom
Rajan Sharma
प्रेम का सौदा कभी सहानुभूति से मत करिए ....
प्रेम का सौदा कभी सहानुभूति से मत करिए ....
पूर्वार्थ
कैसा क़हर है क़ुदरत
कैसा क़हर है क़ुदरत
Atul "Krishn"
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
गोलियों की चल रही बौछार देखो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
पिया मिलन की आस
पिया मिलन की आस
Dr. Girish Chandra Agarwal
हो जाओ तुम किसी और के ये हमें मंजूर नहीं है,
हो जाओ तुम किसी और के ये हमें मंजूर नहीं है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
न दोस्ती है किसी से न आशनाई है
न दोस्ती है किसी से न आशनाई है
Shivkumar Bilagrami
समस्त जगतकी बहर लहर पर,
समस्त जगतकी बहर लहर पर,
Neelam Sharma
*कोपल निकलने से पहले*
*कोपल निकलने से पहले*
Poonam Matia
मुझ को अब स्वीकार नहीं
मुझ को अब स्वीकार नहीं
Surinder blackpen
लालच
लालच
Vandna thakur
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
जग अंधियारा मिट रहा, उम्मीदों के संग l
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
देखता हूँ बार बार घड़ी की तरफ
देखता हूँ बार बार घड़ी की तरफ
gurudeenverma198
पूर्व जन्म के सपने
पूर्व जन्म के सपने
RAKESH RAKESH
फिर पर्दा क्यूँ है?
फिर पर्दा क्यूँ है?
Pratibha Pandey
यक्षिणी / MUSAFIR BAITHA
यक्षिणी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
शिमला, मनाली, न नैनीताल देता है
Anil Mishra Prahari
Loading...