Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 12, 2016 · 1 min read

“सोचकर देखो”

युग बदल रहा है तुम भी जरा बदल कर देखो,
मोह माया से दूर कहीं सीधे चलकर देखो !
———————————–
वक्त का सुरुर बहुत कुछ है कहता यहाँ,
मंज़िल है कहाँ तुम बस ये सोचकर देखो !
——————————–
आयेगा वक्त इस कदर तुम्हारा भी कभी ,
बडे हो गये हो ज़रा बडा सोचकर तो देखो!
———————————–
मिलेगा यहाँ फरिश्ते की तरह कोई,
अबकी बार भरोसा करके देखो !
——————————-
खुदा ने भेजा है तुम्हे किसी अच्छे के लिये यहाँ,
इस कदर कभी खुद को समझकर तो देखो !
————————————
आस्था भी निराधार भक्ति भी जरुरी यहाँ ,
सयंम कभी तो कभी खुद को शांत करके तो देखो !
————————————-
बदल गया यहाँ बहुत कुछ यहाँ ,
खुद को भरी नींद से ज़गा कर तो देखो !

1 Like · 216 Views
You may also like:
तुम और मैं
Ram Krishan Rastogi
मैं उनको शीश झुकाता हूँ
Dheerendra Panchal
माँ क्या लिखूँ।
Anamika Singh
मेरा पेड़
उमेश बैरवा
पिता का दर्द
Nitu Sah
" अखंड ज्योत "
Dr Meenu Poonia
जीवन की सौगात "पापा"
Dr. Alpa H. Amin
विश्व पृथ्वी दिवस
Dr Archana Gupta
✍️आखरी सफर पे हूँ...✍️
"अशांत" शेखर
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
💐💐धड़कता दिल कहे सब कुछ तुम्हारी याद आती है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बारिश
AMRESH KUMAR VERMA
"ज़ुबान हिल न पाई"
अमित मिश्र
सार्थक शब्दों के निरर्थक अर्थ
Manisha Manjari
तेरी सलामती।
Taj Mohammad
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*मतलब डील है (गीतिका)*
Ravi Prakash
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
बाबा ब्याह ना देना,,,
Taj Mohammad
🌺🌺दोषदृष्टया: साधके प्रभावः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सच समझ बैठी दिल्लगी को यहाँ।
ananya rai parashar
गर तू होता क़िताब।
Taj Mohammad
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
गम आ मिले।
Taj Mohammad
हर दिन इसी तरह
gurudeenverma198
शायद मुझसा चोर नहीं मिल सकेगा
gurudeenverma198
क्या अटल था?
Saraswati Bajpai
व्याकुल हुआ है तन मन, कोई बुला रहा है।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम्हीं तो हो ,तुम्हीं हो
Dr.sima
मैं कही रो ना दूँ
Swami Ganganiya
Loading...