Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

सॉप और इंसान

11. सॉप और इंसान

सॉपों की बस्ती में देखा, नाग विषैले भाग रहे ।
घुस आया इंसान एक सब डर के मारे जाग रहे ।।

डरता ना इंसान सॉप अब इंसानों से डरता है ।
काटे चाहे कोई किसी को किन्तु सॉप ही मरता है ।।

चाहे विष हो या कालापन या हो टेढ़ी-मेढ़ी चाल | इंसानों से जीत न पाते, सॉपों को बस यही मलाल ||

विष को खाना विष को पीना और विषवमन करते जीना ।
छोड़ दिया है सॉपों ने अब इंसानी फितरत से जीना ||

लिए सॉप के फन हाथों में फिरते हैं ये लोग महान । इस डर से ये सॉप मर रहे, कहीं काट ना ले इंसान ।।

सॉप सपेरा जादू टोना, ये सब बात पुरानी है ।
अब इंसानों की फितरत से सॉपों में हैरानी है ।।

सॉप काटते नहीं जभी तक पड़े पूँछ पर पॉव नहीं । कौन कहाँ कब कैसे काटे इंसानों का ठॉव नहीं ।।
**********
प्रकाश चंद्र , लखनऊ
IRPS (Retd)

1 Like · 170 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Prakash Chandra
View all
You may also like:
#क़तआ_मुक्तक
#क़तआ_मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
*सत्ता कब किसकी रही, सदा खेलती खेल (कुंडलिया)*
*सत्ता कब किसकी रही, सदा खेलती खेल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अधूरी दास्तान
अधूरी दास्तान
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
जिंदगी है कि जीने का सुरूर आया ही नहीं
Deepak Baweja
शिर्डी के साईं बाबा
शिर्डी के साईं बाबा
Sidhartha Mishra
पढ़ते है एहसासों को लफ्जो की जुबानी...
पढ़ते है एहसासों को लफ्जो की जुबानी...
पूर्वार्थ
गरीबी
गरीबी
Neeraj Agarwal
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
3272.*पूर्णिका*
3272.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
LEAVE
LEAVE
SURYA PRAKASH SHARMA
तुम करो वैसा, जैसा मैं कहता हूँ
तुम करो वैसा, जैसा मैं कहता हूँ
gurudeenverma198
मैं हर चीज अच्छी बुरी लिख रहा हूॅं।
मैं हर चीज अच्छी बुरी लिख रहा हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
Dheerja Sharma
पानी की खातिर
पानी की खातिर
Dr. Kishan tandon kranti
पिता
पिता
Dr Parveen Thakur
भले नफ़रत हो पर हम प्यार का मौसम समझते हैं.
भले नफ़रत हो पर हम प्यार का मौसम समझते हैं.
Slok maurya "umang"
*वोट हमें बनवाना है।*
*वोट हमें बनवाना है।*
Dushyant Kumar
" बिछड़े हुए प्यार की कहानी"
Pushpraj Anant
सुरसा-सी नित बढ़ रही, लालच-वृत्ति दुरंत।
सुरसा-सी नित बढ़ रही, लालच-वृत्ति दुरंत।
डॉ.सीमा अग्रवाल
हे भगवान तुम इन औरतों को  ना जाने किस मिट्टी का बनाया है,
हे भगवान तुम इन औरतों को ना जाने किस मिट्टी का बनाया है,
Dr. Man Mohan Krishna
****** धनतेरस लक्ष्मी का उपहार ******
****** धनतेरस लक्ष्मी का उपहार ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कोई जिंदगी भर के लिए यूं ही सफर में रहा
कोई जिंदगी भर के लिए यूं ही सफर में रहा
कवि दीपक बवेजा
नारी
नारी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जिंदगी मौत से बत्तर भी गुज़री मैंने ।
जिंदगी मौत से बत्तर भी गुज़री मैंने ।
Phool gufran
यह पृथ्वी रहेगी / केदारनाथ सिंह (विश्व पृथ्वी दिवस)
यह पृथ्वी रहेगी / केदारनाथ सिंह (विश्व पृथ्वी दिवस)
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
तेरे संग मैंने
तेरे संग मैंने
लक्ष्मी सिंह
" क़ैद में ज़िन्दगी "
Chunnu Lal Gupta
सत्य की खोज अधूरी है
सत्य की खोज अधूरी है
VINOD CHAUHAN
"अपना"
Yogendra Chaturwedi
सेंधी दोहे
सेंधी दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...