Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

सैनिक

हिन्दुस्तान के वीर सैनिक,
हम सबको तुमपर अभिमान है
अपने माँ पिता परिवार से दूर,
रहते है वो सालों साल।
सरहद पर वो रहते ,
अपने देश की रक्षा करने।

चाहे हो सर्दी गर्मी,
या हो बरसात।
वो हर वक़्त रहते,
सरहद पर तैनात।

बर्फीले पर्वतों पे रहकर,
रेगिस्तान की गर्मी में तपकर
अपना दर्द चोट सब सहकर
हर वक़्त करते देश की सेवा।

मुकाम उनका वही वतन है,
अपने देश की सेवा करना
यही उनका करम है।
सरहद पर जवान,
हर वक़्त रहते तैनात।
तभी हम घर पर,
सोते हैं चद्दर तान।

गर्व हमें हैं उन सैनिक पर,
जिन्होंने मातृभूमि की रक्षा करने
अपना लहू बहाया है।
वही देश का वीर सैनिक कहलाया है।

2 Likes · 289 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mamta Rani
View all
You may also like:
बड़े मिनरल वाटर पी निहाल : उमेश शुक्ल के हाइकु
बड़े मिनरल वाटर पी निहाल : उमेश शुक्ल के हाइकु
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मुझको कबतक रोकोगे
मुझको कबतक रोकोगे
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
आज की राजनीति
आज की राजनीति
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मुस्कुरा ना सका आखिरी लम्हों में
मुस्कुरा ना सका आखिरी लम्हों में
Kunal Prashant
जुदाई - चंद अशआर
जुदाई - चंद अशआर
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
अब कलम से न लिखा जाएगा इस दौर का हाल
Atul Mishra
कुछ बेशकीमती छूट गया हैं तुम्हारा, वो तुम्हें लौटाना चाहता हूँ !
कुछ बेशकीमती छूट गया हैं तुम्हारा, वो तुम्हें लौटाना चाहता हूँ !
The_dk_poetry
जय श्री राम
जय श्री राम
Neha
"परमार्थ"
Dr. Kishan tandon kranti
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के
सजनी पढ़ लो गीत मिलन के
Satish Srijan
शायद यह सोचने लायक है...
शायद यह सोचने लायक है...
पूर्वार्थ
मज़दूर दिवस
मज़दूर दिवस
Shekhar Chandra Mitra
रिश्ते
रिश्ते
Punam Pande
तुमसे एक पुराना रिश्ता सा लगता है मेरा,
तुमसे एक पुराना रिश्ता सा लगता है मेरा,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मछलियां, नदियां और मनुष्य / मुसाफ़िर बैठा
मछलियां, नदियां और मनुष्य / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
आज का बदलता माहौल
आज का बदलता माहौल
Naresh Sagar
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हम उस महफिल में भी खामोश बैठते हैं,
हम उस महफिल में भी खामोश बैठते हैं,
शेखर सिंह
संस्कार
संस्कार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
फिर वही शाम ए गम,
फिर वही शाम ए गम,
ओनिका सेतिया 'अनु '
■ हिंदी सप्ताह के समापन पर ■
■ हिंदी सप्ताह के समापन पर ■
*Author प्रणय प्रभात*
कभी उगता हुआ तारा रोशनी बांट लेता है
कभी उगता हुआ तारा रोशनी बांट लेता है
कवि दीपक बवेजा
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
एक गजल
एक गजल
umesh mehra
जब भी आपसे कोई व्यक्ति खफ़ा होता है तो इसका मतलब यह नहीं है
जब भी आपसे कोई व्यक्ति खफ़ा होता है तो इसका मतलब यह नहीं है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*पीला भी लो मिल गया, तरबूजों का रंग (कुंडलिया)*
*पीला भी लो मिल गया, तरबूजों का रंग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वो छोड़ गया था जो
वो छोड़ गया था जो
Shweta Soni
जवानी में तो तुमने भी गजब ढाया होगा
जवानी में तो तुमने भी गजब ढाया होगा
Ram Krishan Rastogi
जनमदिन तुम्हारा !!
जनमदिन तुम्हारा !!
Dhriti Mishra
दिल में भी
दिल में भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...