Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2024 · 1 min read

सैनिक का सावन

पात पात हरियाली छाई , सावन की है ये अंगड़ाई
महकी वसुधा महकी माटी,अब फुहार ने तपन मिटाई

आशाओं के पुष्प खिले हैं , बिछड़े कितने मीत मिले हैं
नेह के सारे बंध खुले हैं ,धानी चुन्दरिया उड़ उड़ गाई

एक सीमा पर प्रहरी बैठा, सजनी का सोचे वो मुखड़ा
गाल पे भीगा आया टुकड़ा, और तभी बजली कड़काई

कल परसों की बात सुनाऊं, एक सजनी की नियति बताऊँ
अभी तो मेंहदी हाथ लगी थी, जब अर्थी को दी उसने विदाई

समय अगर न पानी वरसे, खलिहानों की धरती तरसे
कोई न करना गलती फिर से, देखो किसको राज थमाई

Language: Hindi
1 Like · 36 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
भारत की है शान तिरंगा
भारत की है शान तिरंगा
surenderpal vaidya
ये दूरियां मजबूरी नही,
ये दूरियां मजबूरी नही,
goutam shaw
मैं अशुद्ध बोलता हूं
मैं अशुद्ध बोलता हूं
Keshav kishor Kumar
जीवन है मेरा
जीवन है मेरा
Dr fauzia Naseem shad
फिर जिंदगी ने दम तोड़ा है
फिर जिंदगी ने दम तोड़ा है
Smriti Singh
वो हमसे पराये हो गये
वो हमसे पराये हो गये
Dr. Man Mohan Krishna
संभल जाओ, करता हूँ आगाह ज़रा
संभल जाओ, करता हूँ आगाह ज़रा
Buddha Prakash
आक्रोश - कहानी
आक्रोश - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बुढ़ापा हूँ मैं
बुढ़ापा हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
अकेला हूँ ?
अकेला हूँ ?
Surya Barman
मेरी भी सुनो
मेरी भी सुनो
भरत कुमार सोलंकी
🥀 * गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 * गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
शहर में नकाबधारी
शहर में नकाबधारी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सुशब्द बनाते मित्र बहुत
सुशब्द बनाते मित्र बहुत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
अरे योगी तूने क्या किया ?
अरे योगी तूने क्या किया ?
Mukta Rashmi
3657.💐 *पूर्णिका* 💐
3657.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
तुम बिन
तुम बिन
Dinesh Kumar Gangwar
प्यार/प्रेम की कोई एकमत परिभाषा कतई नहीं हो सकती।
प्यार/प्रेम की कोई एकमत परिभाषा कतई नहीं हो सकती।
Dr MusafiR BaithA
*अच्छी बातें जो सीखी हैं, ऋषि-मुनियों की बतलाई हैं (राधेश्या
*अच्छी बातें जो सीखी हैं, ऋषि-मुनियों की बतलाई हैं (राधेश्या
Ravi Prakash
★
पूर्वार्थ
चाहे तुम
चाहे तुम
Shweta Soni
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
Prof Neelam Sangwan
हर रात उजालों को ये फ़िक्र रहती है,
हर रात उजालों को ये फ़िक्र रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
🙅मुझे लगता है🙅
🙅मुझे लगता है🙅
*प्रणय प्रभात*
जीवन में,
जीवन में,
नेताम आर सी
समय
समय
नूरफातिमा खातून नूरी
अध्यापक दिवस
अध्यापक दिवस
SATPAL CHAUHAN
देखिए रिश्ते जब ज़ब मजबूत होते है
देखिए रिश्ते जब ज़ब मजबूत होते है
शेखर सिंह
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मौन अधर होंगे
मौन अधर होंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...