Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2023 · 1 min read

सेवा-भाव उदार था, विद्यालय का मूल (कुंडलिया)

सेवा-भाव उदार था, विद्यालय का मूल (कुंडलिया)
—————————————————-
सेवा – भाव उदार था ,विद्यालय का मूल
जनहित की थी कामना ,केवल एक उसूल
केवल एक उसूल ,धन्य विद्यालय खोला
धन्य – धन्य उत्साह , वायुमंडल में डोला
कहते रवि कविराय ,न चाही मिश्री – मेवा
धन्य-धन्य वह लोग, लक्ष्य जिनका था सेवा
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

331 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
"चुभती सत्ता "
DrLakshman Jha Parimal
राष्ट्र-मंदिर के पुजारी
राष्ट्र-मंदिर के पुजारी
नवीन जोशी 'नवल'
मेरा नौकरी से निलंबन?
मेरा नौकरी से निलंबन?
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
"इंसानियत"
Dr. Kishan tandon kranti
गुरु पूर्णिमा
गुरु पूर्णिमा
Radhakishan R. Mundhra
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
लम्हें हसीन हो जाए जिनसे
शिव प्रताप लोधी
जहां प्रगटे अवधपुरी श्रीराम
जहां प्रगटे अवधपुरी श्रीराम
Mohan Pandey
आपकी लिखावट भी यह दर्शा देती है कि आपकी बुद्धिमत्ता क्या है
आपकी लिखावट भी यह दर्शा देती है कि आपकी बुद्धिमत्ता क्या है
Rj Anand Prajapati
मैं........ लिखता हूँ..!!
मैं........ लिखता हूँ..!!
Ravi Betulwala
पृथ्वी
पृथ्वी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मुझको मेरी लत लगी है!!!
मुझको मेरी लत लगी है!!!
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दीवाली
दीवाली
Mukesh Kumar Sonkar
वार
वार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
प्रोफेसर ईश्वर शरण सिंहल का साहित्यिक योगदान (लेख)
प्रोफेसर ईश्वर शरण सिंहल का साहित्यिक योगदान (लेख)
Ravi Prakash
हुआ है इश्क जब से मैं दिवानी हो गई हूँ
हुआ है इश्क जब से मैं दिवानी हो गई हूँ
Dr Archana Gupta
कितनी ही गहरी वेदना क्यूं न हो
कितनी ही गहरी वेदना क्यूं न हो
Pramila sultan
दोहावली ओम की
दोहावली ओम की
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
अटूट सत्य - आत्मा की व्यथा
Sumita Mundhra
जब इंस्पेक्टर ने प्रेमचंद से कहा- तुम बड़े मग़रूर हो..
जब इंस्पेक्टर ने प्रेमचंद से कहा- तुम बड़े मग़रूर हो..
Shubham Pandey (S P)
यूं आंखों से ओझल हो चली हो,
यूं आंखों से ओझल हो चली हो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हे राम!धरा पर आ जाओ
हे राम!धरा पर आ जाओ
Mukta Rashmi
किस तरह से गुज़र पाएँगी
किस तरह से गुज़र पाएँगी
हिमांशु Kulshrestha
जाति-पाति देखे नहीं,
जाति-पाति देखे नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
क़यामत
क़यामत
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मदमस्त
मदमस्त "नीरो"
*प्रणय प्रभात*
🙏गजानन चले आओ🙏
🙏गजानन चले आओ🙏
SPK Sachin Lodhi
दिसम्बर की सर्द शाम में
दिसम्बर की सर्द शाम में
Dr fauzia Naseem shad
माँ-बाप की नज़र में, ज्ञान ही है सार,
माँ-बाप की नज़र में, ज्ञान ही है सार,
पूर्वार्थ
अज्ञानी की कलम
अज्ञानी की कलम
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
2975.*पूर्णिका*
2975.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...