Oct 6, 2016 · 1 min read

सृष्टि स्वयं वंदन करे…: दोहे

नौ रूपों में है बँटा, माता का शुचि रूप.
सृष्टि स्वयं वंदन करे, शोभा दिव्य अनूप..

अश्ववाहिनी आगमन, अपराजिता स्वरूप.
राम शक्तिपूजा यथा, खुले शक्ति के कूप..

आये कन्याराशि में, सूर्य बृहस्पति चन्द्र.
योग बना गजकेसरी, तीव्र बुद्धि, मन मन्द्र..

प्रबल युद्ध का योग है, भीषण जनसंहार.
संधि, घात, विषयोग भी, सावधान हों यार..

नवदुर्गा माँ पार्वती, करिए जग का त्राण.
शारदीय नवरात्रि में, करें विश्व कल्याण..

इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

148 Views
You may also like:
किसी और के खुदा बन गए है।
Taj Mohammad
लाचार बूढ़ा बाप
The jaswant Lakhara
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
हवाओं को क्या पता
Anuj yadav
मम्मी म़ुझको दुलरा जाओ..
Rashmi Sanjay
¡*¡ हम पंछी : कोई हमें बचा लो ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
💐💐प्रेम की राह पर-15💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
परीक्षा को समझो उत्सव समान
ओनिका सेतिया 'अनु '
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH 9A
आरज़ू है बस ख़ुदा
Dr. Pratibha Mahi
खेसारी लाल बानी
Ranjeet Kumar
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट...
Kuldeep mishra (KD)
बेटियाँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ईश प्रार्थना
Saraswati Bajpai
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
Touching The Hot Flames
Manisha Manjari
*तिरछी नजर *
Dr. Alpa H.
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ये जज़्बात कहां से लाते हो।
Taj Mohammad
गुरु तेग बहादुर जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Where is Humanity
Dheerendra Panchal
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
【1】*!* भेद न कर बेटा - बेटी मैं *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कहां चला अरे उड़ कर पंछी
VINOD KUMAR CHAUHAN
दूजा नहीं रहता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
मकड़ी है कमाल
Buddha Prakash
दो बिल्लियों की लड़ाई (हास्य कविता)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...