Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2016 · 1 min read

सृजन

जब सतरंगी सपना कोई,अक्सर मन को छल जाता है;
जब शहनाई के मधुर स्वरों में कोई मुझे बुलाता है;
जब दर्द पराया,अपना बन,अन्तर्मन को मथ देता है,
तब जन्म ग़ज़ल का होता है,या गीत कोई जग जाता है।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Like · 1 Comment · 390 Views
You may also like:
लोग कहते हैं कि कवि
gurudeenverma198
अभी अभी की बात है
कवि दीपक बवेजा
सम्मान करो एक दूजे के धर्म का ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
मां
Umender kumar
कर्म -धर्म
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ईश्वर का वरदान है उर्जा
Anamika Singh
अति पिछड़ों का असली नेता कौन नरेंद्र मोदी या नीतीश...
Nilesh Kumar Soni
*स्वच्छ देश अभियान(मुक्तक)*
Ravi Prakash
पधारो नाथ मम आलय, सु-स्वागत सङ्ग अभिनन्दन।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वनवासी संसार
सूर्यकांत द्विवेदी
नख-शिख हाइकु
Ashwani Kumar Jaiswal
पढ़ाई - लिखाई
AMRESH KUMAR VERMA
धार छंद
Pakhi Jain
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
"खिलौने"
Dr Meenu Poonia
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हर घर तिरंगा
Dr Archana Gupta
अदम गोंडवी
Shekhar Chandra Mitra
वन्दे मातरम वन्दे मातरम
Swami Ganganiya
शुभ मुहूर्त
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हर दिल तिरंगा लाते हैं, हर घर तिरंगा लाते हैं
Seema 'Tu hai na'
कौन लोग थे
Kaur Surinder
महाराष्ट्र में सत्ता परिवर्तन
Ram Krishan Rastogi
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लघुकथा- उम्मीद की किरण
Akib Javed
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
💐 मेरी तलाश💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
फरिश्ता बन गए हो।
Taj Mohammad
कुछ समझ में
Dr fauzia Naseem shad
Loading...