Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2016 · 1 min read

सृजन

जब सतरंगी सपना कोई,अक्सर मन को छल जाता है;
जब शहनाई के मधुर स्वरों में कोई मुझे बुलाता है;
जब दर्द पराया,अपना बन,अन्तर्मन को मथ देता है,
तब जन्म ग़ज़ल का होता है,या गीत कोई जग जाता है।

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 548 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
आज की सौगात जो बख्शी प्रभु ने है तुझे
Saraswati Bajpai
किए जिन्होंने देश हित
किए जिन्होंने देश हित
महेश चन्द्र त्रिपाठी
नीला अम्बर नील सरोवर
नीला अम्बर नील सरोवर
डॉ. शिव लहरी
कल्पना एवं कल्पनाशीलता
कल्पना एवं कल्पनाशीलता
Shyam Sundar Subramanian
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
2657.*पूर्णिका*
2657.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जनैत छी हमर लिखबा सँ
जनैत छी हमर लिखबा सँ
DrLakshman Jha Parimal
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
ग़ज़ल- मशालें हाथ में लेकर ॲंधेरा ढूॅंढने निकले...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
ताजा समाचार है?
ताजा समाचार है?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रिश्ते चंदन की तरह
रिश्ते चंदन की तरह
Shubham Pandey (S P)
फितरत
फितरत
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
*हास्य-व्यंग्य*
*हास्य-व्यंग्य*
Ravi Prakash
"दुनिया को पहचानो"
Dr. Kishan tandon kranti
" मैं फिर उन गलियों से गुजरने चली हूँ "
Aarti sirsat
मोहब्बत जताई गई, इश्क फरमाया गया
मोहब्बत जताई गई, इश्क फरमाया गया
Kumar lalit
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
रंगमंच
रंगमंच
लक्ष्मी सिंह
Remeber if someone truly value you  they will always carve o
Remeber if someone truly value you they will always carve o
पूर्वार्थ
आया तीजो का त्यौहार
आया तीजो का त्यौहार
Ram Krishan Rastogi
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
वेद प्रताप वैदिक को शब्द श्रद्धांजलि
Dr Manju Saini
रो रो कर बोला एक पेड़
रो रो कर बोला एक पेड़
Buddha Prakash
यारों का यार भगतसिंह
यारों का यार भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
कत्ल करती उनकी गुफ्तगू
Surinder blackpen
मॉडर्न किसान
मॉडर्न किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दोस्ती को परखे, अपने प्यार को समजे।
दोस्ती को परखे, अपने प्यार को समजे।
Anil chobisa
💐प्रेम कौतुक-263💐
💐प्रेम कौतुक-263💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
संस्कार
संस्कार
Sanjay ' शून्य'
"आज़ादी के 75 सालों में
*Author प्रणय प्रभात*
मैं  गुल  बना  गुलशन  बना  गुलफाम   बना
मैं गुल बना गुलशन बना गुलफाम बना
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
Loading...