Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

सूर्य को आंखें दिखाना आ गया

*गीतिका*
सूर्य को आंखें दिखाना आ गया।
आंधियों में पग जमाना आ गया।

फौजियों के हौसले को देखकर।
मुश्किलों में पग बढाना आ गया।

मृत्यु के मुख धैर्य उनका देखकर।
दर्द में भी मुस्कुराना आ गया।

शहरदों के बीच खुशियाँ ढूंढ कर।
बाजुओं में नभ समाना आ गया।

दुश्मनी से बाज जो आते नहीं।
शस्त्र भी हमको उठाना आ गया।

कोयले में ढूँढने हमको चमक।
आग में उसको जलाना आ गया।

शौर्य के पन्ने पुराने कुछ पलट।
शत्रुओं को अब डराना आ गया।

लौह को बस लौह ने काटा समझ।
मृदु करों को शर चलाना आ गया।

कृष्ण का उपदेश कर करना समर।
धर्म ‘इषुप्रिय’ को निभाना आ गया।

अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ, सबलगढ(म.प्र.)

1 Comment · 245 Views
You may also like:
एक वीरांगना का अन्त !
Prabhudayal Raniwal
तीर तुक्के
सूर्यकांत द्विवेदी
यह कैसा प्यार है
Anamika Singh
saliqe se hawaon mein jo khushbu ghol sakte hain
Muhammad Asif Ali
शिक्षक दिवस का दीप
Buddha Prakash
ग्रह और शरीर
Vikas Sharma'Shivaaya'
गुरु चरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
परम भगवदभक्त 'प्रह्लाद जी' ✨
Pravesh Shinde
कर्म प्रधान
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
तेरे खेल न्यारे
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम उन्हें कितना भी मनाले
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
*गीता की कर्म-मूलक दृष्टि के सक्रिय प्रवक्ता पंडित मुकुल शास्त्री...
Ravi Prakash
अजीज
shabina. Naaz
तू हकीकत से रू बरू होगा।
Taj Mohammad
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
अराजकता के माहौल
Shekhar Chandra Mitra
अ से अगर मुन्ने
gurudeenverma198
बदल गए
विनोद सिल्ला
जल की अहमियत
Utsav Kumar Aarya
✍️सरहदों के गहरे ज़ख्म✍️
'अशांत' शेखर
लाखों सवाल करता वो मौन।
Manisha Manjari
आज फिर
Rashmi Sanjay
ए बदरी
Dhirendra Panchal
माई थपकत सुतावत रहे राति भर।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जुल्म की इन्तहा
DESH RAJ
,बरसात और बाढ़'
Godambari Negi
देश की शान है बेटियां
Ram Krishan Rastogi
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
जीने की कला
Shyam Sundar Subramanian
जीना मुश्किल
Harshvardhan "आवारा"
Loading...