Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

सूर्य को आंखें दिखाना आ गया

*गीतिका*
सूर्य को आंखें दिखाना आ गया।
आंधियों में पग जमाना आ गया।

फौजियों के हौसले को देखकर।
मुश्किलों में पग बढाना आ गया।

मृत्यु के मुख धैर्य उनका देखकर।
दर्द में भी मुस्कुराना आ गया।

शहरदों के बीच खुशियाँ ढूंढ कर।
बाजुओं में नभ समाना आ गया।

दुश्मनी से बाज जो आते नहीं।
शस्त्र भी हमको उठाना आ गया।

कोयले में ढूँढने हमको चमक।
आग में उसको जलाना आ गया।

शौर्य के पन्ने पुराने कुछ पलट।
शत्रुओं को अब डराना आ गया।

लौह को बस लौह ने काटा समझ।
मृदु करों को शर चलाना आ गया।

कृष्ण का उपदेश कर करना समर।
धर्म ‘इषुप्रिय’ को निभाना आ गया।

अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ, सबलगढ(म.प्र.)

1 Comment · 132 Views
You may also like:
आखिरी कोशिश
AMRESH KUMAR VERMA
*झाँसी की क्षत्राणी । (झाँसी की वीरांगना/वीरनारी)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️शब्दांच्या संवेदना...✍️
"अशांत" शेखर
आज की पत्रकारिता
Anamika Singh
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
नारी है सम्मान।
Taj Mohammad
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्री राधा मोहन चतुर्वेदी
Ravi Prakash
जब-जब देखूं चाँद गगन में.....
अश्क चिरैयाकोटी
मै हूं एक मिट्टी का घड़ा
Ram Krishan Rastogi
तुम्हारा प्यार अब नहीं मिलता।
सत्य कुमार प्रेमी
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
💐प्रेम की राह पर-24💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तेरा मेरा नाता
Alok Saxena
☆☆ प्यार का अनमोल मोती ☆☆
Dr. Alpa H. Amin
प्रोफेसर ईश्वर शरण सिंहल का साहित्यिक योगदान (लेख)
Ravi Prakash
“माटी ” तेरे रूप अनेक
DESH RAJ
ख़ुशी
Alok Saxena
✍️✍️ठोकर✍️✍️
"अशांत" शेखर
पथ पर बैठ गए क्यों राही
Anamika Singh
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
He is " Lord " of every things
Ram Ishwar Bharati
आ लौट के आजा घनश्याम
Ram Krishan Rastogi
पिता
Vandana Namdev
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
सब खड़े सुब्ह ओ शाम हम तो नहीं
Anis Shah
हमारे जीवन में "पिता" का साया
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
तुम हो फरेब ए दिल।
Taj Mohammad
यक्ष प्रश्न ( लघुकथा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Loading...