Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

सूर्य को आंखें दिखाना आ गया

गीतिका
सूर्य को आंखें दिखाना आ गया।
आंधियों में पग जमाना आ गया।

फौजियों के हौसले को देखकर।
मुश्किलों में पग बढाना आ गया।

मृत्यु के मुख धैर्य उनका देखकर।
दर्द में भी मुस्कुराना आ गया।

शहरदों के बीच खुशियाँ ढूंढ कर।
बाजुओं में नभ समाना आ गया।

दुश्मनी से बाज जो आते नहीं।
शस्त्र भी हमको उठाना आ गया।

कोयले में ढूँढने हमको चमक।
आग में उसको जलाना आ गया।

शौर्य के पन्ने पुराने कुछ पलट।
शत्रुओं को अब डराना आ गया।

लौह को बस लौह ने काटा समझ।
मृदु करों को शर चलाना आ गया।

कृष्ण का उपदेश कर करना समर।
धर्म ‘इषुप्रिय’ को निभाना आ गया।

अंकित शर्मा ‘इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ, सबलगढ(म.प्र.)

1 Comment · 386 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
View all
You may also like:
धर्म
धर्म
पंकज कुमार कर्ण
वह आवाज
वह आवाज
Otteri Selvakumar
मन को एकाग्र करने वाले मंत्र जप से ही काम सफल होता है,शांत च
मन को एकाग्र करने वाले मंत्र जप से ही काम सफल होता है,शांत च
Shashi kala vyas
2856.*पूर्णिका*
2856.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
Neelam Sharma
फ़ितरत
फ़ितरत
Ahtesham Ahmad
हर मुश्किल से घिरा हुआ था, ना तुमसे कोई दूरी थी
हर मुश्किल से घिरा हुआ था, ना तुमसे कोई दूरी थी
Er.Navaneet R Shandily
संवाद होना चाहिए
संवाद होना चाहिए
संजय कुमार संजू
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
Priya princess panwar
आयी थी खुशियाँ, जिस दरवाजे से होकर, हाँ बैठी हूँ उसी दहलीज़ पर, रुसवा अपनों से मैं होकर।
आयी थी खुशियाँ, जिस दरवाजे से होकर, हाँ बैठी हूँ उसी दहलीज़ पर, रुसवा अपनों से मैं होकर।
Manisha Manjari
कभी-कभी
कभी-कभी
Sûrëkhâ Rãthí
💐प्रेम कौतुक-293💐
💐प्रेम कौतुक-293💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"जय जवान जय किसान" - आर्टिस्ट (कुमार श्रवण)
Shravan singh
अपराह्न का अंशुमान
अपराह्न का अंशुमान
Satish Srijan
आम आदमी
आम आदमी
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
मन का महाभारत
मन का महाभारत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कुछ नहीं बचेगा
कुछ नहीं बचेगा
Akash Agam
भिक्षु रूप में ' बुद्ध '
भिक्षु रूप में ' बुद्ध '
Buddha Prakash
फ़ितरतन
फ़ितरतन
Monika Verma
पूछ रही हूं
पूछ रही हूं
Srishty Bansal
वापस
वापस
Harish Srivastava
*स्वतंत्रता संग्राम के तपस्वी श्री सतीश चंद्र गुप्त एडवोकेट*
*स्वतंत्रता संग्राम के तपस्वी श्री सतीश चंद्र गुप्त एडवोकेट*
Ravi Prakash
मेरी …….
मेरी …….
Sangeeta Beniwal
है जिसका रहमो करम और प्यार है मुझ पर।
है जिसका रहमो करम और प्यार है मुझ पर।
सत्य कुमार प्रेमी
नौनी लगै घमौरी रे ! (बुंदेली गीत)
नौनी लगै घमौरी रे ! (बुंदेली गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दर्द पर लिखे अशआर
दर्द पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
Shakil Alam
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
शिव प्रताप लोधी
ना जाने सुबह है या शाम,
ना जाने सुबह है या शाम,
Madhavi Srivastava
#पर्व_का_सार
#पर्व_का_सार
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...