Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Oct 2023 · 1 min read

सुविचार

सुविचार
➿➿➿➿➿➿➿➿➿
उठो, जागो, ओर सूर्यास्त
होने तक मत रूको ।

जो चीज तुम्हें त्यागने
लगे, उससे पहले तुम
उसे त्याग दो ।

अपने लक्ष्य को प्राप्त
करना ही जीवन का
अंतिम ध्येय हैं।

209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*हमारा संविधान*
*हमारा संविधान*
Dushyant Kumar
Kitna hasin ittefak tha ,
Kitna hasin ittefak tha ,
Sakshi Tripathi
एहसास दिला देगा
एहसास दिला देगा
Dr fauzia Naseem shad
एक तरफा प्यार
एक तरफा प्यार
Neeraj Agarwal
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हाय.
हाय.
Vishal babu (vishu)
काव्य की आत्मा और सात्विक बुद्धि +रमेशराज
काव्य की आत्मा और सात्विक बुद्धि +रमेशराज
कवि रमेशराज
जिंदगी का सफर
जिंदगी का सफर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
महिलाएं अक्सर हर पल अपने सौंदर्यता ,कपड़े एवम् अपने द्वारा क
Rj Anand Prajapati
सफल व्यक्ति
सफल व्यक्ति
Paras Nath Jha
"लिख और दिख"
Dr. Kishan tandon kranti
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
एक ऐसे कथावाचक जिनके पास पत्नी के अस्थि विसर्जन तक के लिए पै
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
चाहती हूँ मैं
चाहती हूँ मैं
Shweta Soni
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
तुम्हें रूठना आता है मैं मनाना सीख लूँगा,
pravin sharma
गज़ल सी कविता
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
■ छोटी दीवाली
■ छोटी दीवाली
*Author प्रणय प्रभात*
बता ये दर्द
बता ये दर्द
विजय कुमार नामदेव
पहले दिन स्कूल (बाल कविता)
पहले दिन स्कूल (बाल कविता)
Ravi Prakash
💐Prodigy Love-39💐
💐Prodigy Love-39💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं और मेरी फितरत
मैं और मेरी फितरत
लक्ष्मी सिंह
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
#सृजनएजुकेशनट्रस्ट
Rashmi Ranjan
عظمت رسول کی
عظمت رسول کی
अरशद रसूल बदायूंनी
जीवन भी एक विदाई है,
जीवन भी एक विदाई है,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
चींटी रानी
चींटी रानी
Dr Archana Gupta
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
Rekha khichi
फिरौती
फिरौती
Shyam Sundar Subramanian
चरम सुख
चरम सुख
मनोज कर्ण
जिज्ञासा और प्रयोग
जिज्ञासा और प्रयोग
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
23/125.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/125.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
 मैं गोलोक का वासी कृष्ण
 मैं गोलोक का वासी कृष्ण
Pooja Singh
Loading...