Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2023 · 1 min read

सुरनदी_को_त्याग_पोखर_में_नहाने_जा_रहे_हैं……!!

#सुरनदी_को_त्याग_पोखर_में_नहाने_जा_रहे_हैं……!!
_______________________________________________
रीति की अर्थी सजाकर, सभ्यता से हो विलग हम,
सद्य कर अभिदान पावक में जलाने जा रहे हैं।।

पूर्वजों से आज तक भी
जो मिली थीं थातियाँ वो,
मान कर सब रूढ़िवादी
पग वहाँ से मोड़ आये।
मोहिनी बदरंग है पर
नग्नता ही भा रही है,
बंध उस परिवेश पश्चिम से
अभी हम जोड़ आये।
आधुनिक विकसित बनेंगे
तज पुरातन भद्रता को,
सोच अपना भाग्य देखो, हम जगाने जा रहे हैं।

रीति की अर्थी सजाकर, सभ्यता से हो विलग हम,
सद्य कर अभिदान पावक में जलाने जा रहे हैं।।

आधुनिकता कह रही है
बंधनों में क्या मिलेगा,
त्याग दे हर एक बंधन
और तू स्वाधीन हो जा।
तज सकल परिधान देशी
नग्न हो प्राधीन हो जा।
व्यक्त कर उन्मुक्तता को
और तू रंगीन हो जा,
दिव्यता जो नव्यतम में
है नहीं प्राचीनतम में।
सोच को मुखरित किया निज को मिलाने जा रहे हैं।

रीति की अर्थी सजाकर, सभ्यता से हो विलग हम,
सद्य कर अभिदान पावक में जलाने जा रहे हैं।।

त्याग दी पुरखों कि संचित
संस्कारिक सब धरोहर,
देखकर सम्भ्रांतता पाश्चात्य
की मन हील गया है।
किन्तु अन्तर्मन हमारा
नित्य ही संवाद करता,
और हमसे प्रश्न एकल
क्या सभी कुछ मिल गया है?
सद्य उभरे प्रश्न का उत्तर
नहीं कुछ पास है पर,
सुरनदी को त्याग पोखर में नहाने जा रहे हैं।

रीति की अर्थी सजाकर, सभ्यता से हो विलग हम,
सद्य कर अभिदान पावक में जलाने जा रहे हैं।।

✍️ संजीव शुक्ल ‘सचिन’

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
हिदायत
हिदायत
Bodhisatva kastooriya
कहमुकरी
कहमुकरी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुमने कितनो के दिल को तोड़ा है
तुमने कितनो के दिल को तोड़ा है
Madhuyanka Raj
दिव्य दर्शन है कान्हा तेरा
दिव्य दर्शन है कान्हा तेरा
Neelam Sharma
मित्रता
मित्रता
Shashi kala vyas
भले ई फूल बा करिया
भले ई फूल बा करिया
आकाश महेशपुरी
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
मेरी रातों की नींद क्यों चुराते हो
Ram Krishan Rastogi
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
*.....उन्मुक्त जीवन......
*.....उन्मुक्त जीवन......
Naushaba Suriya
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
Rj Anand Prajapati
2551.*पूर्णिका*
2551.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई
यादों के अथाह में विष है , तो अमृत भी है छुपी हुई
Atul "Krishn"
मेरी हस्ती
मेरी हस्ती
Shyam Sundar Subramanian
भाषण अब कैसे रूके,पॉंचों साल चुनाव( कुंडलिया)
भाषण अब कैसे रूके,पॉंचों साल चुनाव( कुंडलिया)
Ravi Prakash
पुष्प और तितलियाँ
पुष्प और तितलियाँ
Ritu Asooja
सत्य क्या है ?
सत्य क्या है ?
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जीवन का मुस्कान
जीवन का मुस्कान
Awadhesh Kumar Singh
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
The Third Pillar
The Third Pillar
Rakmish Sultanpuri
लौट आओ ना
लौट आओ ना
VINOD CHAUHAN
किन्नर व्यथा...
किन्नर व्यथा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
इंसान तो मैं भी हूं लेकिन मेरे व्यवहार और सस्कार
इंसान तो मैं भी हूं लेकिन मेरे व्यवहार और सस्कार
Ranjeet kumar patre
हे आशुतोष !
हे आशुतोष !
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
सारी रोशनी को अपना बना कर बैठ गए
कवि दीपक बवेजा
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
जीना है तो ज़माने के रंग में रंगना पड़ेगा,
_सुलेखा.
जिन्दगी में
जिन्दगी में
लक्ष्मी सिंह
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी पहली होली
मेरी पहली होली
BINDESH KUMAR JHA
धर्म और सिध्दांत
धर्म और सिध्दांत
Santosh Shrivastava
Loading...