Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Nov 2023 · 5 min read

“सुरक्षा में चूक” (संस्मरण-फौजी दर्पण)

डॉ लक्ष्मण झा परिमल
================
ऑपरेशन थिएटर के बरान्डे हम चार ट्रैनइज बातें कर रहे थे ! रबिवार को ड्यूटी जो लगी थी ! सर्जन ,अनास्थिसिऑलोजिस्ट ,ओ 0 टी0 मेट्रॉन,सूबेदार, परमानेंट स्टाफ , ट्रैनइज और सफाई कर्मचारी आकर ऑपरेशन थिएटर को पूर्णतः तैयार कर के 11 बजे तक चले गए ! एक पर्मानेट स्टाफ और तीन ट्रैनइज की 24 घंटे की ड्यूटी लगी थी ! हालांकि रबिवार की ड्यूटी थोड़ी खलती थी ! पर कुछ ही क्षणों में जम के वर्षा होने लगी ! मेरे साथ बिहारी लाल डोगरा और चंद्रशेखर कुरूप थे ! बिहारी लाल डोगरा ने कहा ,-
“ अच्छा हुआ वर्षा होने लगी ! आज तो कहीं घूम ही नहीं सकते थे !”
अम्बाला केंट फौजी छावनी से भरा था ! सैनिक अस्पताल ,अम्बाला ठीक बीचों बीच माल रोड के किनारे ही था ! केंट का बाजार , सदर बाजार और दो सिनेमा हॉल इसके सिवा और कुछ नहीं ! हमलोगों का पर्सनेल लाइन अम्बाला केंट रेल्वे स्टेशन के बगल में था ! अस्पताल और सिंगल पर्सनेल लाइन की दूरी 2 किलोमीटर थी ! हमलोगों ने ज्वाला साइकिल स्टोर से 15 रुपये महीने के लिए साइकिल ले रखी थी ! अस्पताल आना -जाना इसी से होता था ! 1976 में बिरले ही किसी के पास स्कूटर होता था !
हमलोग ड्यूटी रूम में बैठे बातें कर ही रहे थे कि कॉल बेल बजा ! सफाई वला रमेश बाहर से आकर मुझे कहा ,-
“ झा साहिब ! आपका गेस्ट आपके गाँव से आया है !”
कहाँ दुमका कहाँ अम्बाला ? कहाँ मधुबनी कहाँ अम्बाला ? दुमका में मेरा घर है और मौलिक घर गनौली ,ससुराल शिबीपट्टी और मातृक पिलखवाड़ ! भला इतने दूर से कौन आया ? अपने में गुन- धुन करते निकला ! मैं तो O T परिधान में था ! हरा पायजामा ,हरा गोल गले वाला हाफ कुर्ता , O T चप्पल और हरा कैप और मास्क ! मैंने अपना मास्क मुँह से हटाया और उनसे मिलते ही नमस्कार किया ! वे पूर्णतः वर्षा से भींग गए थे ! उन्हें वैटिंग रूम में बिठाया और पूछा , –
“ किससे आपको मिलना है ?”
उन्होंने उत्तर दिया “ झा जी से मिलना है!”
“यहाँ झा तो मैं ही हूँ,कौन झा से मिलना है”-मैंने पूछा !
“ बात यह है कि मेरा नाम “”गुनानन्द झा”” है ! मैं ग्राम तरौनी ,जिला मधुबनी ,बिहार का रहने वाला हूँ ! मैं पंजाब के फिरोजपुर में एक प्राइवेट कम्पनी में कम करता हूँ ! सहारनपुर में मेरा सामान चोरी हो गया ! यहाँ उतर कर मैंने झा जी का पता लगाया !”
दरअसल वो मैथिली में बोल रहे थे और मैं भी अपनी मातृभाषा में बातें कर रहा था ! उनकी हरेक बातें मेरे हृदय को छू रहीं थीं ! मनुष्य मनुष्य के काम ना आ सके तो फिर क्या काम की जिंदगी ?
मेरे साथ के साथी ड्यूटी वाले ने कहा ,-
“दोपहर के खाने का समय हो गया है !इन्हें पर्सनेल लाइन ले जाओ और अपने लंगर में खाना खिलाओ !”
गुनानन्द जी को अपनी साइकिल पर बिठा अपने लाइन ले गया ! इनके पास कोई अपना सामान नहीं था ! मैंने अपने सिवल कपड़े दिया ! लोगों से परिचय कराया ! लोगों को यदि मैं बताता कि इनको मैं नहीं जानता हूँ ! तो इन्हें मिलिटरी परिवेश में नहीं रख सकते थे ! इसलिए लोगों को कहना पड़ा “मेरे “ग्राहीन” हैं ! लोग तो यहाँ तक सोचने लगे और कहने लगे “ ये तो मेरे भाई के तरह लगते हैं !”
मैं उन्हें लंगर में खाना खिलाया ! वापस अपने लाइन में सबके साथ उन्हें रखा !
हालांकि गुनानन्द जी काफी मिलनसार थे ! लोग सब उनको पसंद करने लगे ! पर मैं सोच रहा था कल सोमवार को मैं ड्यूटी चला जाऊँगा और फिर इनको कैसे यहाँ रख सकता हूँ ! एक दिन की बात होती तो चल सकती है ! दूसरे दिन तो प्रशासन को बताना पड़ेगा ! मैंने उनसे स्पष्ट पूछ लिया ,-
“ देखिए , आपको पर्सनेल लाइन में मैं एक दिन के अलावे दूसरे दिन नहीं रख सकता ! यह मिलिटरी यूनिट है ! लोग समझ रहे हैं कि आप मेरे भाई हैं ! अन्यथा अनजान व्यक्ति यहाँ नहीं रहने दिया जाता है !”
“ मेरे पास एक रुपया भी नहीं है ! सब चीज चोरी हो गयी ! आप यदि 500 रुपये मुझे कर्ज दे दें तो मैं फिरोजपुर पहुँचकर मनीऑर्डर आपको कर दूँगा !”
उनके स्वर में अनुनय और विनय दोनों का समावेश था ! पर उस समय का 500 रुपये पाँच हजार रुपये के बराबर माना जा था ! मैंने गुनानन्द जी को कहा ,-
“ इतने रुपये तो मैं आपको दे नहीं सकूँगा ! मेरे पास सिर्फ 75 रुपये हैं !”
सोमवार को भोजन करबा कर शाम को उनको बिदा किया !
जाते वक्त मेरा पता उन्होंने लिया और वादा किया कि मनीऑर्डर कर देंगे !
अगस्त 1976 छह महीने के बाद मेरी पोस्टिंग 26 फील्ड अस्पताल बबीना,झाँसी आ गयी ! रोड के इस तरफ मेडिकल यूनिट और रोड के उस तरफ सिग्नल यूनिट था ! सिग्नल के ताराकांत ठाकुर के साथ ही शाम का खाना खाते थे ! बबीना बाजार से मछली लाकर स्वयं बनाते थे ! शाम में अपने- अपने लंगरों से खाना लेते थे और कुछ स्पेशल बनाकर उनके ही लाइन में मिलकर खाते थे ! इसतरह ताराकांत बाबू से मेरी दोस्ती अच्छी हो गयी थी !
ठीक दो साल बाद 1978 में नवंबर की बात है ! शाम में बबीना बाजार चला गया ! मन किया आधा किलो मछली मैंने खरीदी ! और सीधे सिग्नल के पर्सनेल लाइन में ताराकांत ठाकुर जी की चारपाई के करीब पहुँचा तो मैं अबाक रह गया ! देखता हूँ वही गुनानन्द झा ताराकांत ठाकुर जी के चारपाई पर बैठे हैं ! मेरे तो होश उड़ गए ! गुनानन्द झा जी ने नमस्कार कहा ! मैंने भी उत्तर में अभिवादन किया !
अम्बाला वाली कहानी तो पहले ही ताराकांत ठाकुर जी को सुनाया था ! पर यह वही व्यक्ति है यह ताराकांत ठाकुर जी को भला कैसे पता होता ?
मछली बनने लगी ! गुनानन्द झा कुछ क्षणों के लिए बाथरूम गए !
मैंने ताराकांत ठाकुर से पूछा , –
“ क्या ये आपके परिचित हैं !”
“जी नहीं!….ये मैथिल हैं ,किसी मैथिल को ढूंढ रहे थे ! अब रात हो गयी ! कहाँ जाएंगे ? इसलिए मैंने उन्हें रोक लिया !”
बस मैंने अम्बाला की कहानी को दुहरा दिया ! ताराकांत ठाकुर सुरक्षा के मामले में बहुत ही संजीदा थे !
इतने ही देर में गुनानन्द झा बाथ रूम से आ गए ! पहले भोजन कराया और फिर ताराकांत ठाकुर ने कहा ,-
“ आपका रुकना यहाँ उचित नहीं है ! आपने तो अपने समाज को कलंकित कर रखा है !”
गुनानन्द झा जी चले गये और निजी सुरक्षा का पाठ हमलोगों को पढ़ा गए !!
===============
डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
एस ० पी ० कॉलेज रोड
दुमका
झारखंड
20.11.2023.

Language: Hindi
1 Like · 159 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
छोड़ जाएंगे
छोड़ जाएंगे
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
पूर्वार्थ
छोड़ कर महोब्बत कहा जाओगे
छोड़ कर महोब्बत कहा जाओगे
Anil chobisa
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
तूने ही मुझको जीने का आयाम दिया है
हरवंश हृदय
मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
ruby kumari
प्रोटोकॉल
प्रोटोकॉल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
*मित्र हमारा है व्यापारी (बाल कविता)*
*मित्र हमारा है व्यापारी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Safar : Classmates to Soulmates
Safar : Classmates to Soulmates
Prathmesh Yelne
रोम रोम है दर्द का दरिया,किसको हाल सुनाऊं
रोम रोम है दर्द का दरिया,किसको हाल सुनाऊं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Bundeli Doha pratiyogita 142
Bundeli Doha pratiyogita 142
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
रमजान में....
रमजान में....
Satish Srijan
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
जब इंस्पेक्टर ने प्रेमचंद से कहा- तुम बड़े मग़रूर हो..
जब इंस्पेक्टर ने प्रेमचंद से कहा- तुम बड़े मग़रूर हो..
Shubham Pandey (S P)
उतर चुके जब दृष्टि से,
उतर चुके जब दृष्टि से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वतन के लिए
वतन के लिए
नूरफातिमा खातून नूरी
वो काजल से धार लगाती है अपने नैनों की कटारों को ,,
वो काजल से धार लगाती है अपने नैनों की कटारों को ,,
Vishal babu (vishu)
शिशिर ऋतु-३
शिशिर ऋतु-३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
2469.पूर्णिका
2469.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
फूल
फूल
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Rap song 【5】
Rap song 【5】
Nishant prakhar
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
क्या सीत्कार से पैदा हुए चीत्कार का नाम हिंदीग़ज़ल है?
कवि रमेशराज
उपदेशों ही मूर्खाणां प्रकोपेच न च शांतय्
उपदेशों ही मूर्खाणां प्रकोपेच न च शांतय्
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ बच कर रहिएगा
■ बच कर रहिएगा
*Author प्रणय प्रभात*
আমি তোমাকে ভালোবাসি
আমি তোমাকে ভালোবাসি
Otteri Selvakumar
बीत जाता हैं
बीत जाता हैं
TARAN VERMA
ख़ाइफ़ है क्यों फ़स्ले बहारांँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच
ख़ाइफ़ है क्यों फ़स्ले बहारांँ, मैं भी सोचूँ तू भी सोच
Sarfaraz Ahmed Aasee
बैठ अटारी ताकता, दूरी नभ की फाँद।
बैठ अटारी ताकता, दूरी नभ की फाँद।
डॉ.सीमा अग्रवाल
वापस लौट आते हैं मेरे कदम
वापस लौट आते हैं मेरे कदम
gurudeenverma198
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
लड़की कभी एक लड़के से सच्चा प्यार नही कर सकती अल्फाज नही ये
Rituraj shivem verma
Loading...