Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2023 · 1 min read

सुबह की चाय मिलाती हैं

सुबह की चाय मिलाती हैं
बस जिंदगी
गुज़र जाती हैं
लम्हें रंगमंच के
चाय चाय में गुज़रते हैं

259 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मन का मैल नहीं धुले
मन का मैल नहीं धुले
Paras Nath Jha
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
shabina. Naaz
दर्द अपना
दर्द अपना
Dr fauzia Naseem shad
भरे मन भाव अति पावन....
भरे मन भाव अति पावन....
डॉ.सीमा अग्रवाल
कोई काम हो तो बताना
कोई काम हो तो बताना
Shekhar Chandra Mitra
*घर में तो सोना भरा, मुझ पर गरीबी छा गई (हिंदी गजल)
*घर में तो सोना भरा, मुझ पर गरीबी छा गई (हिंदी गजल)
Ravi Prakash
जन्माष्टमी
जन्माष्टमी
लक्ष्मी सिंह
भारत के वीर जवान
भारत के वीर जवान
Mukesh Kumar Sonkar
रिश्तों में वक्त नहीं है
रिश्तों में वक्त नहीं है
पूर्वार्थ
Har Ghar Tiranga
Har Ghar Tiranga
Tushar Jagawat
चीरहरण
चीरहरण
Acharya Rama Nand Mandal
"अदृश्य शक्ति"
Ekta chitrangini
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
कुछ ख़ुमारी बादलों को भी रही,
manjula chauhan
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
चढ़ा हूँ मैं गुमनाम, उन सीढ़ियों तक
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरी फितरत तो देख
मेरी फितरत तो देख
VINOD CHAUHAN
कभी सोचता हूँ मैं
कभी सोचता हूँ मैं
gurudeenverma198
ये घड़ी की टिक-टिक को मामूली ना समझो साहब
ये घड़ी की टिक-टिक को मामूली ना समझो साहब
शेखर सिंह
"बेज़ारे-तग़ाफ़ुल"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जलाओ प्यार के दीपक खिलाओ फूल चाहत के
जलाओ प्यार के दीपक खिलाओ फूल चाहत के
आर.एस. 'प्रीतम'
सहयोग आधारित संकलन
सहयोग आधारित संकलन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दिगपाल छंद{मृदुगति छंद ),एवं दिग्वधू छंद
दिगपाल छंद{मृदुगति छंद ),एवं दिग्वधू छंद
Subhash Singhai
*सर्दी की धूप*
*सर्दी की धूप*
Dr. Priya Gupta
बाल कविता: तितली
बाल कविता: तितली
Rajesh Kumar Arjun
दिलों के खेल
दिलों के खेल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सारे यशस्वी, तपस्वी,
सारे यशस्वी, तपस्वी,
*प्रणय प्रभात*
सच ही सच
सच ही सच
Neeraj Agarwal
"जंगल की सैर”
पंकज कुमार कर्ण
3074.*पूर्णिका*
3074.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
DrLakshman Jha Parimal
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
Suryakant Dwivedi
Loading...