Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2023 · 1 min read

सुप्रभात

सुप्रभात
मीठी वाणी बोल कर,करते जो सत काज।
मिलती भोले की कृपा,सुंदर रहता साज।।

ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

1 Like · 1 Comment · 308 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
देश के दुश्मन कहीं भी, साफ़ खुलते ही नहीं हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ये दुनिया है
ये दुनिया है
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
वो लड़की
वो लड़की
Kunal Kanth
सैनिक
सैनिक
Mamta Rani
गुजरात माडल ध्वस्त
गुजरात माडल ध्वस्त
Shekhar Chandra Mitra
रहस्य-दर्शन
रहस्य-दर्शन
Mahender Singh Manu
कावड़ियों की धूम है,
कावड़ियों की धूम है,
manjula chauhan
देश हमारा
देश हमारा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
एक लड़का
एक लड़का
Shiva Awasthi
बाल एवं हास्य कविता : मुर्गा टीवी लाया है।
बाल एवं हास्य कविता : मुर्गा टीवी लाया है।
Rajesh Kumar Arjun
■ लघु_व्यंग्य
■ लघु_व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
जिन्दगी
जिन्दगी
Bodhisatva kastooriya
*
*"रोटी"*
Shashi kala vyas
मौन जीव के ज्ञान को, देता  अर्थ विशाल ।
मौन जीव के ज्ञान को, देता अर्थ विशाल ।
sushil sarna
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
Vishal babu (vishu)
बेचारी रोती कलम ,कहती वह था दौर (कुंडलिया)*
बेचारी रोती कलम ,कहती वह था दौर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दोस्ती
दोस्ती
Surya Barman
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
Tushar Singh
2626.पूर्णिका
2626.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
रात के अंँधेरे का सौंदर्य वही बता सकता है जिसमें बहुत सी रात
Neerja Sharma
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
***कृष्णा ***
***कृष्णा ***
Kavita Chouhan
यूँ ही ऐसा ही बने रहो, बिन कहे सब कुछ कहते रहो…
यूँ ही ऐसा ही बने रहो, बिन कहे सब कुछ कहते रहो…
Anand Kumar
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
एक दिन में तो कुछ नहीं होता
shabina. Naaz
जितने धैर्यता, सहनशीलता और दृढ़ता के साथ संकल्पित संघ के स्व
जितने धैर्यता, सहनशीलता और दृढ़ता के साथ संकल्पित संघ के स्व
जय लगन कुमार हैप्पी
सितम फिरदौस ना जानो
सितम फिरदौस ना जानो
प्रेमदास वसु सुरेखा
मेरी फितरत ही बुरी है
मेरी फितरत ही बुरी है
VINOD CHAUHAN
नीम
नीम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...