Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Apr 2021 · 1 min read

नमन माँ गंग !पावन

नमन मां गंग ! पावन, शिव जटा से अवतरण करती।
नमन मंदाकिनी! अविरल ,सदा हित वैतरण करती।
यहां भागीरथी मां श्राप धोती सगर पूतों का।
सरित देवी !बहो निर्मल धरा का उद्धरण करती

सदानीरा, सदा निर्झर ,हिमालय से, निकलती हो।
यथा निर्मल, सदा पावन, मुखी गौ से ,पिघलती हो।
जलधि से भी ,अधिक पावन ,हमारी गंग माता है।
पहाड़ों से उतरकर माँ धरा पर तुम फिसलती हो।

कभी संगम कभी पटना कभी काशी निवासी हो।
कहीं उद्गम हिमालय से कहीं सागर प्रवासी हो।
तुम्हारी संस्कृति के गान सारा विश्व गाता है।
नमन गंगा ! सुपावन देव काशी की नवासी हो।

डा.प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
वरिष्ठ परामर्श दाता, प्रभारी रक्त कोष
जिला चिकित्सालय सीतापुर
9450022526
मौलिक रचना

Language: Hindi
2 Comments · 537 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
View all
You may also like:
शमशान और मैं l
शमशान और मैं l
सेजल गोस्वामी
बस चार ही है कंधे
बस चार ही है कंधे
Rituraj shivem verma
कैसे हमसे प्यार करोगे
कैसे हमसे प्यार करोगे
KAVI BHOLE PRASAD NEMA CHANCHAL
बिछोह
बिछोह
Shaily
सत्य शुरू से अंत तक
सत्य शुरू से अंत तक
विजय कुमार अग्रवाल
या देवी सर्वभूतेषु माँ स्कंदमाता रूपेण संस्थिता । नमस्तस्यै
या देवी सर्वभूतेषु माँ स्कंदमाता रूपेण संस्थिता । नमस्तस्यै
Harminder Kaur
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
नहीं रखा अंदर कुछ भी दबा सा छुपा सा
Rekha Drolia
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
कृष्ण सा हैं प्रेम मेरा
The_dk_poetry
हिंदी का आनंद लीजिए __
हिंदी का आनंद लीजिए __
Manu Vashistha
यादों के जंगल में
यादों के जंगल में
Surinder blackpen
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
वक्त बदलते ही चूर- चूर हो जाता है,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सकारात्मक सोच
सकारात्मक सोच
Neelam Sharma
शिक्षित लोग
शिक्षित लोग
Raju Gajbhiye
*रामपुर में विवाह के अवसर पर सेहरा गीतों की परंपरा*
*रामपुर में विवाह के अवसर पर सेहरा गीतों की परंपरा*
Ravi Prakash
*चिंता और चिता*
*चिंता और चिता*
VINOD CHAUHAN
संघर्षों को लिखने में वक्त लगता है
संघर्षों को लिखने में वक्त लगता है
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
🍁🌹🖤🌹🍁
🍁🌹🖤🌹🍁
शेखर सिंह
आग लगाते लोग
आग लगाते लोग
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
*
*"ब्रम्हचारिणी माँ"*
Shashi kala vyas
सबसे कठिन है
सबसे कठिन है
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
" जिन्दगी क्या है "
Pushpraj Anant
जीवन है आँखों की पूंजी
जीवन है आँखों की पूंजी
Suryakant Dwivedi
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
कभी वैरागी ज़हन, हर पड़ाव से विरक्त किया करती है।
Manisha Manjari
तेरे इश्क़ में थोड़े घायल से हैं,
तेरे इश्क़ में थोड़े घायल से हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
व्यंग्य एक अनुभाव है +रमेशराज
कवि रमेशराज
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
पूर्वार्थ
"वक्त"
Dr. Kishan tandon kranti
🙅दोहा🙅
🙅दोहा🙅
*प्रणय प्रभात*
बदचलन (हिंदी उपन्यास)
बदचलन (हिंदी उपन्यास)
Shwet Kumar Sinha
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...