Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2017 · 2 min read

सुनो बेटियों

सुनो बेटियों

डॉ . गरिमा संजय दुबे

तुम हिमालय सी उत्तंग किंतू
तुम्हारा कद , तुम्हारे स्कर्ट के छोटे
होने पर निर्भर क्यों रहे ?
तुम हीरे सी प्रकाशवान किंतू
तुम्हारी चमक नकली जेवरों और
मेक अप की मोहताज़ क्यों रहे ?
तुम आधुनिका , तुम सुपर वीमेन
फिर तुम्हे स्वतंत्रता के छदम् आवरण
क्यों ओढ़ना पड़े?
बन दुर्गा करती रहना संहार हर
अनीति अन्याय का ,
किंतू भटक न जाना कहीं अपनी
राह से , भूल न जाना भेद
स्वतंत्रता और स्वच्छंदता का ,
शक्ति न बने बदले का हथियार
विकृत न हो सत्ता और अधिकार

न समझ लेना कि
पुरुष जैसा होना ही ,
स्वतन्त्र होना होता है ,
मत चलना इस शार्ट कट पर जहां ,
खो दोगी अपना नैसर्गिक नारीत्व
क्योंकि तुम सृजन हो ,
विध्वंस नहीं ,
तुम्हारा नारीत्व ही
है अंतिम आस
मनुष्यता के उज्जवल भविष्य की
खींच लाना है तुम्हे पुरुषों को ,
हिंसा और अभिमान के अंधे कुओं से ,
सिखलाना है नीति अनीति के भेद को ,
स्थापित करना है समता मूलक समाज
जहां गलत सबके लिए गलत हो ।

किंतू राह है कठिन ,
न होगा आसान लड़ना
पुरुष के दम्भ से ,
न होगा आसान लड़ना नारीवाद के
छदम् नारो से ,
तो डरकर कहीं छोड़ न देना आस ,
और पकड़ न लेना पुरुष होने की सरल राह ,
पुरुष होना बड़ा सरल है ।
रात को पब में नशा करते , गाली देते
हिंसा और ब्लैक मेलिंग के किस्से,
पल पल बॉय फ्रेंड बदलने को
न समझ लेना स्वतंत्रता ,
मत लेना पहन समझ
उन्हें आधुनिकता के मैडल ।
कुछ सरफिरे मार रहे है तुम्हारे सर पर ,
स्वतंत्रता के मखमल में लिपटा शोषण का जूता ।

निर्णय के सारे अधिकार तुम्हारे ,
क्या चाहती हो कीचड़ हो जाना ?
या कीचड़ में इतने कमल खिलाना
कि कीचड़ का अस्तित्व ही न रहे ।
सुन रही हो ना बेटियों ।

1 Like · 606 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"वे खेलते हैं आग से"
Dr. Kishan tandon kranti
मतदान
मतदान
साहिल
जनमदिन तुम्हारा !!
जनमदिन तुम्हारा !!
Dhriti Mishra
जिसकी जिससे है छनती,
जिसकी जिससे है छनती,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अनकहे अल्फाज़
अनकहे अल्फाज़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जिंदगी की कहानी लिखने में
जिंदगी की कहानी लिखने में
Shweta Soni
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
पत्नी जब चैतन्य,तभी है मृदुल वसंत।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बेटा हिन्द का हूँ
बेटा हिन्द का हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कहना नहीं तुम यह बात कल
कहना नहीं तुम यह बात कल
gurudeenverma198
जो कहना है खुल के कह दे....
जो कहना है खुल के कह दे....
Shubham Pandey (S P)
लोकतंत्र का महापर्व
लोकतंत्र का महापर्व
Er. Sanjay Shrivastava
दोस्ती
दोस्ती
Kanchan Alok Malu
धड़कूँगा फिर तो पत्थर में भी शायद
धड़कूँगा फिर तो पत्थर में भी शायद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अपनी हिंदी
अपनी हिंदी
Dr.Priya Soni Khare
वही पर्याप्त है
वही पर्याप्त है
Satish Srijan
वृद्धावस्था
वृद्धावस्था
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
👍कमाल👍
👍कमाल👍
*Author प्रणय प्रभात*
शाकाहार स्वस्थ आहार
शाकाहार स्वस्थ आहार
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
माँ शेरावली है आनेवाली
माँ शेरावली है आनेवाली
Basant Bhagawan Roy
बातें की बहुत की तुझसे,
बातें की बहुत की तुझसे,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय-  उँगली   / अँगुली
21-हिंदी दोहा दिवस , विषय- उँगली / अँगुली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मां का घर
मां का घर
नूरफातिमा खातून नूरी
*आवारा या पालतू, कुत्ते सब खूॅंखार (कुंडलिया)*
*आवारा या पालतू, कुत्ते सब खूॅंखार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़।
आर्या कंपटीशन कोचिंग क्लासेज केदलीपुर ईरनी रोड ठेकमा आजमगढ़।
Rj Anand Prajapati
खुशनसीबी
खुशनसीबी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नयन प्रेम के बीज हैं,नयन प्रेम -विस्तार ।
नयन प्रेम के बीज हैं,नयन प्रेम -विस्तार ।
डॉक्टर रागिनी
जिसनें जैसा चाहा वैसा अफसाना बना दिया
जिसनें जैसा चाहा वैसा अफसाना बना दिया
Sonu sugandh
The OCD Psychologist
The OCD Psychologist
मोहित शर्मा ज़हन
एक टहनी एक दिन पतवार बनती है,
एक टहनी एक दिन पतवार बनती है,
Slok maurya "umang"
कोमल चितवन
कोमल चितवन
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Loading...