Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 2 min read

सुनो पहाड़ की…..!!!! (भाग – ६)

जंगल की तरफ जाता हुआ यह रास्ता सुनसान या असुरक्षित बिल्कुल नहीं था। यह शहर की सड़क की भांति ही एक चलता हुआ रास्ता था, जहाँ पर कारों व टैक्सियों इत्यादि का लगातार आवागमन था। रास्ते के एक ओर पहाड़ व दूसरी ओर जंगल तथा बीच में रास्ता होकर गुजर रहा था। हम आगे बढ़ रहे थे। लेकिन अमित का मूड इस तरफ जाने का नहीं हो रहा था। उसे लग रहा था कि हम बेमतलब ही खुद को थका रहे हैं क्योंकि हमें मंदिर तो जाना नहीं था। वैसे भी शाम का समय था, ऐसे में पैदल जंगल की ओर जाने में खतरा हो सकता था और फिर हमारा समय भी बेकार जा रहा था। इतनी देर में हम ऋषिकेश के कुछ और स्थान घूम सकते थे। लेकिन अर्पण अपनी धुन में था। वह आगे बढ़ते हुए हमें इस रास्ते पर अपनी पुरानी यात्राओं के किस्से बताते हुए चला जा रहा था।

मुझे भी न जाने‌ क्यों इस शान्त से माहौल में अच्छा महसूस हो रहा था। चलते हुए बीच में अर्पण व अमित तस्वीरें भी खींचते रहे और बातचीत भी लगातार चल रही थी। कभी चर्चा रास्ते पर गुजरती गाड़ियों तो कभी नीलकंठ महादेव मंदिर व काँवड़ यात्रा की, इन सब विषयों पर बातचीत करते हुए हम आगे बढ़ते चले जा रहे थे।
इस तरह हम जंगल वाले रास्ते पर काफी आगे बढ़ गये, तब मैंने अर्पण और अमित से लौटने को कहा क्योंकि शाम बढ़ रही थी। जल्दी ही अंधेरा होने लगता, ऐसे में अक्सर जंगली जानवरों का भी रास्ते की ओर निकल आने का खतरा बना रहता है। इस विचार से हम वापसी के लिए लौट पड़े। लौटते समय हमारा बातचीत व तस्वीरें खींचने का सिलसिला जारी था कि अचानक अर्पण की नजर जंगल से सड़क की ओर आये एक जानवर पर पड़ी और उसने मेरा व अमित का ध्यान उसकी ओर आकर्षित करने के लिए हमें उधर देखने को और उसकी तस्वीर खींचने को कहा। मैंने देखा कि यह हिरण का बच्चा था, जो रास्ते की ओर निकल आया था। लेकिन इससे पहले कि हम मोबाइल में उसकी तस्वीर ले पाते, हमारी आवाजें सुनकर यह एक ही छलांग में जंगल में कहीं गुम हो गया।
जंगल की ओर जाते समय हमारी चर्चा का विषय भगवान शिव व उनका मंदिर सहित पहाड़ एवं जंगल था। किन्तु वापसी में बात मुख्य रूप से हिरण के बच्चे व उसकी तस्वीर न ले पाने पर केन्द्रित होकर रह गयी।

(क्रमशः)
(पष्टम् भाग समाप्त)

रचनाकार :- कंचन खन्ना,
मुरादाबाद, (उ०प्र०, भारत)।
सर्वाधिकार, सुरक्षित (रचनाकार)।
दिनांक :- २५/०७/२०२२.

Language: Hindi
59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Kanchan Khanna
View all
You may also like:
रंग रंगीली होली आई
रंग रंगीली होली आई
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
जीवन को नया
जीवन को नया
भरत कुमार सोलंकी
किसान मजदूर होते जा रहे हैं।
किसान मजदूर होते जा रहे हैं।
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
ये नोनी के दाई
ये नोनी के दाई
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
विषय तरंग
विषय तरंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*मुहब्बत के मोती*
*मुहब्बत के मोती*
आर.एस. 'प्रीतम'
मंगल मय हो यह वसुंधरा
मंगल मय हो यह वसुंधरा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
Dr Nisha nandini Bhartiya
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
प्रेम ईश्वर प्रेम अल्लाह
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
घर के मसले | Ghar Ke Masle | मुक्तक
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Kanchan Khanna
आज गरीबी की चौखट पर (नवगीत)
आज गरीबी की चौखट पर (नवगीत)
Rakmish Sultanpuri
जामुनी दोहा एकादश
जामुनी दोहा एकादश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
संघर्ष वह हाथ का गुलाम है
संघर्ष वह हाथ का गुलाम है
प्रेमदास वसु सुरेखा
रूह बनकर उतरती है, रख लेता हूँ,
रूह बनकर उतरती है, रख लेता हूँ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
हम जितने ही सहज होगें,
हम जितने ही सहज होगें,
लक्ष्मी सिंह
“सभी के काम तुम आओ”
“सभी के काम तुम आओ”
DrLakshman Jha Parimal
हां राम, समर शेष है
हां राम, समर शेष है
Suryakant Dwivedi
* पावन धरा *
* पावन धरा *
surenderpal vaidya
प्रेम
प्रेम
Prakash Chandra
दोस्ती
दोस्ती
Shashi Dhar Kumar
"लाल गुलाब"
Dr. Kishan tandon kranti
3012.*पूर्णिका*
3012.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वह आवाज
वह आवाज
Otteri Selvakumar
जिंदगी में एक रात ऐसे भी आएगी जिसका कभी सुबह नहीं होगा ll
जिंदगी में एक रात ऐसे भी आएगी जिसका कभी सुबह नहीं होगा ll
Ranjeet kumar patre
महान क्रांतिवीरों को नमन
महान क्रांतिवीरों को नमन
जगदीश शर्मा सहज
मैं सरिता अभिलाषी
मैं सरिता अभिलाषी
Pratibha Pandey
*माता चरणों में विनय, दो सद्बुद्धि विवेक【कुंडलिया】*
*माता चरणों में विनय, दो सद्बुद्धि विवेक【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
Loading...