Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Sep 2022 · 1 min read

सुना था हमने, इश्क़ बेवफ़ाई का नाम है

सुना था हमने, इश्क़ बेवफ़ाई का नाम है
पर यक़ीन ना किये तो धोखा खाना पड़ा

बची हुई जिंदगी जी रहे है अब जैसे-तैसे
ना करना फिक्र साथ यादों का जमाना खड़ा

©® प्रेमयाद कुमार नवीन
जिला – महमसुन्द (छः ग)

15 Views
You may also like:
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
कोई ऐसे धार दे
Dr fauzia Naseem shad
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
मन
शेख़ जाफ़र खान
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
तीन किताबें
Buddha Prakash
Loading...