Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2016 · 1 min read

सुखद सुहावन सावन आया

सुखद सुहावन सावन आया !
जीव जन्तु मेढक तन पाया !!
मोर, पपीहा, कोयल बोले !
मस्त पवन चले होले होले !!
हरा भरा उपवन मह्के जब !
पंछी पेड़ों पर चहके तब !!
इंद्र धनुष कई रंग दिखाया !
सुखद सुहावन सावन आया !!
छम छम बरसे बरखा रानी !
खेतों में सागर सा पानी !!
नदियाँ नाले करते कल कल !
बैलो के संग संग चलते हल !!
खुश होकर जुगनू फिर गाया !
सुखद सुहावन सावन आया !!
पके आम जामुन फल खाते !
कीचड़ में लतपत हो जाते !!
गाय साथ हम जंगल रहते !
दुःख सुख,वारिस भी सह्ते !!
याद मेरा आज बचपन आया !
सुखद सुहावन सावन आया !!

Language: Hindi
Tag: गीत
532 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
मत सता गरीब को वो गरीबी पर रो देगा।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
इंसान VS महान
इंसान VS महान
Dr MusafiR BaithA
मैं अशुद्ध बोलता हूं
मैं अशुद्ध बोलता हूं
Keshav kishor Kumar
सबके साथ हमें चलना है
सबके साथ हमें चलना है
DrLakshman Jha Parimal
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
जीवन भी एक विदाई है,
जीवन भी एक विदाई है,
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
कोरोना में शादियाँ (तीन कुंडलियाँ )
कोरोना में शादियाँ (तीन कुंडलियाँ )
Ravi Prakash
A Beautiful Mind
A Beautiful Mind
Dhriti Mishra
राजनीति का नाटक
राजनीति का नाटक
Shyam Sundar Subramanian
मार्केटिंग फंडा
मार्केटिंग फंडा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
घर पर घर
घर पर घर
Surinder blackpen
मोहब्ब्बत के रंग तुम पर बरसा देंगे आज,
मोहब्ब्बत के रंग तुम पर बरसा देंगे आज,
Shubham Pandey (S P)
फितरत
फितरत
मनोज कर्ण
क्या डरना?
क्या डरना?
Shekhar Chandra Mitra
हो तेरी ज़िद
हो तेरी ज़िद
Dr fauzia Naseem shad
खालीपन
खालीपन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
** बहुत दूर **
** बहुत दूर **
surenderpal vaidya
🌺प्रेम कौतुक-191🌺
🌺प्रेम कौतुक-191🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
2378.पूर्णिका
2378.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तुम्हारा घर से चला जाना
तुम्हारा घर से चला जाना
Dheerja Sharma
5 हाइकु
5 हाइकु
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्यासा के हुनर
प्यासा के हुनर
Vijay kumar Pandey
इन पैरो तले गुजरता रहा वो रास्ता आहिस्ता आहिस्ता
इन पैरो तले गुजरता रहा वो रास्ता आहिस्ता आहिस्ता
'अशांत' शेखर
हाँ मैं किन्नर हूँ…
हाँ मैं किन्नर हूँ…
Anand Kumar
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
भर मुझको भुजपाश में, भुला गई हर राह ।
भर मुझको भुजपाश में, भुला गई हर राह ।
Arvind trivedi
मनोहन
मनोहन
Seema gupta,Alwar
तुम मेरे बादल हो, मै तुम्हारी काली घटा हूं
तुम मेरे बादल हो, मै तुम्हारी काली घटा हूं
Ram Krishan Rastogi
******* प्रेम और दोस्ती *******
******* प्रेम और दोस्ती *******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...