Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Nov 2023 · 1 min read

सुकर्मों से मिलती है

प्रयत्नों से मिल सकता है
कभी खोया हुआ सामान
लाख जतन से वापस नहीं
होता खोया हुआ सम्मान
बड़ी शिद्दत से कायम रखें
निज गरिमा और सम्मान
यही आपको दिला सकता
जग में ऊंचा ओहदा,स्थान
सुकर्मों से मिलती है इंसान
को दुनिया में कभी प्रसिद्धि
तभी इंसान की ख्याति में
होती जाती है निरंतर वृद्धि

Language: Hindi
102 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रंग आख़िर किसलिए
रंग आख़िर किसलिए
*Author प्रणय प्रभात*
International plastic bag free day
International plastic bag free day
Tushar Jagawat
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
**तीखी नजरें आर-पार कर बैठे**
**तीखी नजरें आर-पार कर बैठे**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खुद की नज़रों में भी
खुद की नज़रों में भी
Dr fauzia Naseem shad
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
चींटी रानी
चींटी रानी
Manu Vashistha
मणिपुर कौन बचाए..??
मणिपुर कौन बचाए..??
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
2258.
2258.
Dr.Khedu Bharti
*बड़े नखरों से आना और, फिर जल्दी है जाने की 【हिंदी गजल/गीतिक
*बड़े नखरों से आना और, फिर जल्दी है जाने की 【हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
हमारा अस्तिव हमारे कर्म से होता है, किसी के नजरिए से नही.!!
हमारा अस्तिव हमारे कर्म से होता है, किसी के नजरिए से नही.!!
Jogendar singh
महाराष्ट्र की राजनीति
महाराष्ट्र की राजनीति
Anand Kumar
'रामबाण' : धार्मिक विकार से चालित मुहावरेदार शब्द / DR. MUSAFIR BAITHA
'रामबाण' : धार्मिक विकार से चालित मुहावरेदार शब्द / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मां की शरण
मां की शरण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ऊँचाई .....
ऊँचाई .....
sushil sarna
"शुभचिन्तक"
Dr. Kishan tandon kranti
आपकी आहुति और देशहित
आपकी आहुति और देशहित
Mahender Singh
आदतों में तेरी ढलते-ढलते, बिछड़न शोहबत से खुद की हो गयी।
आदतों में तेरी ढलते-ढलते, बिछड़न शोहबत से खुद की हो गयी।
Manisha Manjari
मत कहना ...
मत कहना ...
SURYA PRAKASH SHARMA
बदलता चेहरा
बदलता चेहरा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मैं तेरा श्याम बन जाऊं
मैं तेरा श्याम बन जाऊं
Devesh Bharadwaj
एक कप कड़क चाय.....
एक कप कड़क चाय.....
Santosh Soni
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
The_dk_poetry
मैं
मैं
Dr.Pratibha Prakash
होली का त्यौहार
होली का त्यौहार
Shriyansh Gupta
,,,,,
,,,,,
शेखर सिंह
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
बचपन की यादें
बचपन की यादें
प्रीतम श्रावस्तवी
कितनी बार शर्मिंदा हुआ जाए,
कितनी बार शर्मिंदा हुआ जाए,
ओनिका सेतिया 'अनु '
दिल कि आवाज
दिल कि आवाज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...