Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

सुंदर बेला //हाइकु

सुंदर बेला
बसंत उत्सव में
कोयल कूकी !!

[2]
नदी किनारे
एक छोटा सा गाँव
है स्वर्ग जैसी !!

[3]
स्वर्ग कश्मीर
हिंद की पहचान
हिंद की आन !!

[4]
पक्षी निडर
सपने है उन्मुक्त
नभ वश में !!

[5]
खुला आकाश
मैं रंगीन पतंग
आशा की डोर !!

180 Views
You may also like:
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
पिता
Dr. Kishan Karigar
औरों को देखने की ज़रूरत
Dr fauzia Naseem shad
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
Loading...