Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jan 2024 · 1 min read

सीता ढूँढे राम को,

सीता ढूँढे राम को,
गली-गली में आज ।
लूट रहे हर मोड़ पर,
देखो रावण लाज़।।

सुशील सरना / 19-1-24

87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
सीने का समंदर, अब क्या बताऊ तुम्हें
The_dk_poetry
किताबें
किताबें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
2741. *पूर्णिका*
2741. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम भी सोचते हैं अपनी लेखनी को कोई आयाम दे दें
हम भी सोचते हैं अपनी लेखनी को कोई आयाम दे दें
DrLakshman Jha Parimal
"कर्म और भाग्य"
Dr. Kishan tandon kranti
शाकाहारी बने
शाकाहारी बने
Sanjay ' शून्य'
*जिंदगी मुझ पे तू एक अहसान कर*
*जिंदगी मुझ पे तू एक अहसान कर*
sudhir kumar
नए साल की नई सुबह पर,
नए साल की नई सुबह पर,
Anamika Singh
विषय - पर्यावरण
विषय - पर्यावरण
Neeraj Agarwal
आजकल के परिवारिक माहौल
आजकल के परिवारिक माहौल
पूर्वार्थ
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
आर एस आघात
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
जन्नत
जन्नत
जय लगन कुमार हैप्पी
किसी से बाते करना छोड़ देना यानि की त्याग देना, उसे ब्लॉक कर
किसी से बाते करना छोड़ देना यानि की त्याग देना, उसे ब्लॉक कर
Rj Anand Prajapati
कलियों  से बनते फूल हैँ
कलियों से बनते फूल हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
■दोहा■
■दोहा■
*Author प्रणय प्रभात*
टॉम एंड जेरी
टॉम एंड जेरी
Vedha Singh
*सबसे सुंदर जग में अपना, तीर्थ अयोध्या धाम है (गीत)*
*सबसे सुंदर जग में अपना, तीर्थ अयोध्या धाम है (गीत)*
Ravi Prakash
महिमा है सतनाम की
महिमा है सतनाम की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कामयाबी का
कामयाबी का
Dr fauzia Naseem shad
नींद आने की
नींद आने की
हिमांशु Kulshrestha
इल्म़
इल्म़
Shyam Sundar Subramanian
हिंदी दिवस पर राष्ट्राभिनंदन
हिंदी दिवस पर राष्ट्राभिनंदन
Seema gupta,Alwar
आज का यथार्थ~
आज का यथार्थ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
कितने इनके दामन दागी, कहते खुद को साफ।
कितने इनके दामन दागी, कहते खुद को साफ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिन्दगी
जिन्दगी
Bodhisatva kastooriya
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
मौत के लिए किसी खंज़र की जरूरत नहीं,
लक्ष्मी सिंह
प्यार का नाम मेरे दिल से मिटाया तूने।
प्यार का नाम मेरे दिल से मिटाया तूने।
Phool gufran
जय जय दुर्गा माता
जय जय दुर्गा माता
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...