Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

सीख

नहीं सीख बुरी कोई पर सब बेटियों के लिए क्यों है
नहीं रीत बुरी कोई फिर बेटियों के लिए क्यों है
विवेकपूर्ण परिधान हो है सही ये बात
पर नियंत्रित भी तो रहें दोषपूर्ण निगाह और जज्बात
है मासूमियत भली पर बेटियों के लिये बुरीक्यों है
नहीं सीख——-
क्या मुगल फिर से शासन हो गया फिर से परदा घूंघट चलन हो गया
नहीं अगर तो बेटियो के लिए मानसिकता वही क्यों है
नही सीख———-
क्या साडी में साक्षी का लड़ना सम्भव था
क्या दीपा का प्रदर्शन सलवार कमीज में सम्भव था
इतनी पहरेदारी कर्मो पे न होकर बेटियों पर क्यों है
नहीं सीख——–
गोपी से जाकर पूछो कैसे संधू ने खेला है
लपेट तिरंगे को जिस्म से कैसे चूमा है
समय की मांग पर भी नहीं आज़ादी बेटियों को क्यों है
नहीं सीख ——-
नहीं दौर अभी का ये याद दिलती हूँ
प.टी.उषा,अश्वनी,मल्लेश्वरी,मैरीकॉम गिनाती हूँ
नेहवाल और मिर्ज़ा को भी महत्ता न्यून सी ही क्यों है
नहीं सीख——-
कल्पना,सुनीता भी यदि परिधानों में बन्ध जाती
कतय साख तुम्हारी इतनी विश्व में बड़ पाती
इतनी सी समझ समय पर आती क्यों नहीं है
नहीं सीख——-
दृष्टि दोष करो ठीक समाज ये पुरुष प्रधान
सम्मान करो नारीत्व का इसमें छिपा तेरा अस्तित्व महान
सोचो प्रकृति की तुलना स्त्री की विद्वानों ने की क्यों है
नहीं सीख बुरी———

Language: Hindi
17 Likes · 3 Comments · 254 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
जीभर न मिलीं रोटियाँ, हमको तो दो जून
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
When you become conscious of the nature of God in you, your
When you become conscious of the nature of God in you, your
पूर्वार्थ
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
कवि रमेशराज
तुम हारिये ना हिम्मत
तुम हारिये ना हिम्मत
gurudeenverma198
वक़्त
वक़्त
विजय कुमार अग्रवाल
"द्वंद"
Saransh Singh 'Priyam'
सनातन
सनातन
देवेंद्र प्रताप वर्मा 'विनीत'
पुस्तक
पुस्तक
जगदीश लववंशी
"चिन्तन का कोना"
Dr. Kishan tandon kranti
सुख-साधन से इतर मुझे तुम दोगे क्या?
सुख-साधन से इतर मुझे तुम दोगे क्या?
Shweta Soni
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
Surinder blackpen
*औषधि (बाल कविता)*
*औषधि (बाल कविता)*
Ravi Prakash
#drarunkumarshastriblogger
#drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खिलौनो से दूर तक
खिलौनो से दूर तक
Dr fauzia Naseem shad
सबला
सबला
Rajesh
हिन्दी के हित
हिन्दी के हित
surenderpal vaidya
बहुत बातूनी है तू।
बहुत बातूनी है तू।
Buddha Prakash
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-139 शब्द-दांद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"चैन से इस दौर में बस वो जिए।
*Author प्रणय प्रभात*
थपकियाँ दे मुझे जागती वह रही ।
थपकियाँ दे मुझे जागती वह रही ।
Arvind trivedi
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
साथ तेरा रहे साथ बन कर सदा
डॉ. दीपक मेवाती
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
कैसा होगा कंटेंट सिनेमा के दौर में मसाला फिल्मों का भविष्य?
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
*जी लो ये पल*
*जी लो ये पल*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कभी किसी को इतनी अहमियत ना दो।
कभी किसी को इतनी अहमियत ना दो।
Annu Gurjar
पर्वतों से भी ऊॅ॑चा,बुलंद इरादा रखता हूॅ॑ मैं
पर्वतों से भी ऊॅ॑चा,बुलंद इरादा रखता हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
सुनले पुकार मैया
सुनले पुकार मैया
Basant Bhagawan Roy
सब अनहद है
सब अनहद है
Satish Srijan
नया विज्ञापन
नया विज्ञापन
Otteri Selvakumar
3120.*पूर्णिका*
3120.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आसान नहीं होता
आसान नहीं होता
डॉ० रोहित कौशिक
Loading...