Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2017 · 1 min read

**** ‘सीख’ होती है अनमोल*****

*पंछी से सीखा है मैंने
ऊँचें उड़ना चहचहाना |

*सूरज से सीखा है मैंने
नई सुबह की किरण फैलाना |

*ऊँचे नभ-गगन से सीखा
शीतलता का एहसास पुराना|

*अपनी इस धरती से सीखा
ममता का आँचल फैलाना |

*सागर से सीखा है मैंने
हर नैया को पार लगाना |

*सीखा उसकी लहरों से है
बढ़ते जाना बढ़ते जाना |

*उस बहती नदिया से सीखा
दुख को कैसे पार लगाना |

*सीखा उस ऊँचे पर्वत से
शीश उठाकर जीते जाना

*पथरीली राहों से सीखा
मुश्किल में मंजिल को पाना |

*राह के उस पथिक से
सीखा मंजिल को आसान बनाना |

*लाखों उन तारों से सीखा
रोशन होकर टिम टिमाना |

*उस चंदा से भी सीखा है
घटना,बढ़ना और चमकाना |

*काली बदरी से सीखा है
सुख की वर्षा करते जाना |

*वर्षा की बूँदों से सीखा
रहागीर की प्यास बुझाना |

*मौसम से सीखा है मैंने
आना-जाना सुख बरसाना|

*सावन के झोंकों से सीखा
चलते-जाना कभी न रूकना |

*सावन के झूलों से सीखा
परदेसी को पास बुलाना |

*अपने देश से सीखा मैंने
हाथ मिलाकर कदम बढ़ाना |

*उस परदेसी से भी सीखा
अपने देश की शान बढ़ाना |

*धरती के मानव से सीखा
सब धर्मों का आदर करना |

*सीखा हर छोटे बच्चे से
भेदभाव को दूर भगाना |

*एक है हम और एक रहेंगे
मिलजुल कर हम साथ चलेंगे |

*****कहे नीरू ये आज सभी सेे,
सीख कहीं से भी हो प्राप्त,******
******रखो उसे तुम सहज संभाल |

Language: Hindi
324 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भारत
भारत
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
आंखों में हया, होठों पर मुस्कान,
आंखों में हया, होठों पर मुस्कान,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बड़ी मुश्किल है
बड़ी मुश्किल है
Basant Bhagawan Roy
एक तुम्हारे होने से...!!
एक तुम्हारे होने से...!!
Kanchan Khanna
अमृता प्रीतम
अमृता प्रीतम
Dr fauzia Naseem shad
— नारी न होती तो —
— नारी न होती तो —
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
दिल है के खो गया है उदासियों के मौसम में.....कहीं
shabina. Naaz
अपने साथ चलें तो जिंदगी रंगीन लगती है
अपने साथ चलें तो जिंदगी रंगीन लगती है
VINOD CHAUHAN
जून की कड़ी दुपहरी
जून की कड़ी दुपहरी
Awadhesh Singh
विछोह के पल
विछोह के पल
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
रौशनी को राजमहलों से निकाला चाहिये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
समय न मिलना यें तो बस एक बहाना है
समय न मिलना यें तो बस एक बहाना है
Keshav kishor Kumar
सरस्वती वंदना-5
सरस्वती वंदना-5
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
■नापाक सौगात■
■नापाक सौगात■
*प्रणय प्रभात*
बाधाएं आती हैं आएं घिरे प्रलय की घोर घटाएं पावों के नीचे अंग
बाधाएं आती हैं आएं घिरे प्रलय की घोर घटाएं पावों के नीचे अंग
पूर्वार्थ
राखी की सौगंध
राखी की सौगंध
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रमेशराज की 11 तेवरियाँ
रमेशराज की 11 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
जिंदगी कभी रुकती नहीं, वो तो
जिंदगी कभी रुकती नहीं, वो तो
Befikr Lafz
किस क़दर
किस क़दर
हिमांशु Kulshrestha
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
श्रद्धावान बनें हम लेकिन, रहें अंधश्रद्धा से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मैंने किस्सा बदल दिया...!!
मैंने किस्सा बदल दिया...!!
Ravi Betulwala
गुज़ारिश है रब से,
गुज़ारिश है रब से,
Sunil Maheshwari
महान जन नायक, क्रांति सूर्य,
महान जन नायक, क्रांति सूर्य, "शहीद बिरसा मुंडा" जी को उनकी श
नेताम आर सी
जो मिला ही नहीं
जो मिला ही नहीं
Dr. Rajeev Jain
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
Kishore Nigam
एक शेर
एक शेर
Ravi Prakash
2776. *पूर्णिका*
2776. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सागर प्रियतम प्रेम भरा है हमको मिलने जाना है।
सागर प्रियतम प्रेम भरा है हमको मिलने जाना है।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
हम पर कष्ट भारी आ गए
हम पर कष्ट भारी आ गए
Shivkumar Bilagrami
Loading...