Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jun 2016 · 1 min read

*सीख*

ऐ सुमन मुरझा नहीँ तू मुस्कुराना सीख ले
मन चमन घबरा नहीँ तू खिलखिलाना सीख ले
प्रीत का पलड़ा रहा है हर घड़ी ही डोलता
वैर को अपने सदा ही तू भुलाना सीख ले
धर्मेन्द्र अरोड़ा

Language: Hindi
1 Comment · 261 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐अज्ञात के प्रति-4💐
💐अज्ञात के प्रति-4💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ख्वाब सुलग रहें है... जल जाएंगे इक रोज
ख्वाब सुलग रहें है... जल जाएंगे इक रोज
सिद्धार्थ गोरखपुरी
क्रोध
क्रोध
लक्ष्मी सिंह
किसी से भी
किसी से भी
Dr fauzia Naseem shad
भारती-विश्व-भारती
भारती-विश्व-भारती
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
मानवता है धर्म सत,रखें सभी हम ध्यान।
मानवता है धर्म सत,रखें सभी हम ध्यान।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
बधाई का गणित / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
पैसा होय न जेब में,
पैसा होय न जेब में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
*** मुंह लटकाए क्यों खड़ा है ***
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
गीत गा रहा फागुन
गीत गा रहा फागुन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2613.पूर्णिका
2613.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"अगर"
Dr. Kishan tandon kranti
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
बुलन्द होंसला रखने वाले लोग, कभी डरा नहीं करते
The_dk_poetry
अग्निपरीक्षा
अग्निपरीक्षा
Shekhar Chandra Mitra
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
Kishore Nigam
या देवी सर्वभूतेषु माँ स्कंदमाता रूपेण संस्थिता । नमस्तस्यै
या देवी सर्वभूतेषु माँ स्कंदमाता रूपेण संस्थिता । नमस्तस्यै
Harminder Kaur
एक नज़र से ही मौहब्बत का इंतेखाब हो गया।
एक नज़र से ही मौहब्बत का इंतेखाब हो गया।
Phool gufran
किरदार
किरदार
Surinder blackpen
और प्रतीक्षा सही न जाये
और प्रतीक्षा सही न जाये
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
लैला लैला
लैला लैला
Satish Srijan
मदनोत्सव
मदनोत्सव
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Lines of day
Lines of day
Sampada
एक दिन
एक दिन
Ranjana Verma
दोहे
दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
गर लिखने का सलीका चाहिए।
गर लिखने का सलीका चाहिए।
Dr. ADITYA BHARTI
अंधेरे के आने का खौफ,
अंधेरे के आने का खौफ,
Buddha Prakash
■ सवालिया शेर-
■ सवालिया शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
*अभी भी शुक्रिया साँसों का, चलता सिलसिला मालिक【मुक्तक 】*
*अभी भी शुक्रिया साँसों का, चलता सिलसिला मालिक【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
हमारा चंद्रयान थ्री
हमारा चंद्रयान थ्री
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...