Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jan 2024 · 1 min read

सिर्फ खुशी में आना तुम

सिर्फ खुशी में आना तुम
अभी तुम दूर रहो
क्योंकि अभी मैं परेशान हूं।

1 Like · 78 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
करवा चौथ
करवा चौथ
नवीन जोशी 'नवल'
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
_सुलेखा.
3126.*पूर्णिका*
3126.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
" क़ैद में ज़िन्दगी "
Chunnu Lal Gupta
*
*"जन्मदिन की शुभकामनायें"*
Shashi kala vyas
जाने कैसे दौर से गुजर रहा हूँ मैं,
जाने कैसे दौर से गुजर रहा हूँ मैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
कृष्णकांत गुर्जर
दस्तक भूली राह दरवाजा
दस्तक भूली राह दरवाजा
Suryakant Dwivedi
काश कि ऐसा होता....
काश कि ऐसा होता....
Ajay Kumar Mallah
कुंडलिया
कुंडलिया
दुष्यन्त 'बाबा'
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
जगमगाती चाँदनी है इस शहर में
Dr Archana Gupta
अनुभव
अनुभव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
हिन्दी दोहा बिषय- तारे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आप जब खुद को
आप जब खुद को
Dr fauzia Naseem shad
हिंदी माता की आराधना
हिंदी माता की आराधना
ओनिका सेतिया 'अनु '
"अनकही सी ख़्वाहिशों की क्या बिसात?
*Author प्रणय प्रभात*
* straight words *
* straight words *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*चिकित्सक (कुंडलिया)*
*चिकित्सक (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तिरंगे के तीन रंग , हैं हमारी शान
तिरंगे के तीन रंग , हैं हमारी शान
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
💐Prodigy Love-8💐
💐Prodigy Love-8💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"अन्तरात्मा की पथिक "मैं"
शोभा कुमारी
Learn self-compassion
Learn self-compassion
पूर्वार्थ
जिंदगी तेरी हर अदा कातिलाना है।
जिंदगी तेरी हर अदा कातिलाना है।
Surinder blackpen
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
निराशा हाथ जब आए, गुरू बन आस आ जाए।
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रथम गणेशोत्सव
प्रथम गणेशोत्सव
Raju Gajbhiye
खाक मुझको भी होना है
खाक मुझको भी होना है
VINOD CHAUHAN
खूबसूरत जिंदगी में
खूबसूरत जिंदगी में
Harminder Kaur
दिल के इक कोने में तुम्हारी यादों को महफूज रक्खा है।
दिल के इक कोने में तुम्हारी यादों को महफूज रक्खा है।
शिव प्रताप लोधी
Loading...