Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jul 2021 · 1 min read

सितारों से आगे

अगर तू है तो कोई
तेरे सिवा भी होगा!
ज़रूर कायनात में
एक ख़ुदा भी होगा!!
जिसने तुझे, ऐ दिल
सिखाया है धड़कना
उसने तेरे बारे में
कुछ सोचा भी होगा!!
Shekhar Chandra Mitra
#oshovision
(A Dream of Love)

Language: Hindi
294 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
Dr MusafiR BaithA
घर जला दिए किसी की बस्तियां जली
घर जला दिए किसी की बस्तियां जली
कृष्णकांत गुर्जर
जग कल्याणी
जग कल्याणी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हमने देखा है हिमालय को टूटते
हमने देखा है हिमालय को टूटते
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जो खास है जीवन में उसे आम ना करो।
जो खास है जीवन में उसे आम ना करो।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
न ख्वाबों में न ख्यालों में न सपनों में रहता हूॅ॑
न ख्वाबों में न ख्यालों में न सपनों में रहता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
सौगंध से अंजाम तक - दीपक नीलपदम्
सौगंध से अंजाम तक - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मेरी फितरत में नहीं है हर किसी का हो जाना
मेरी फितरत में नहीं है हर किसी का हो जाना
Vishal babu (vishu)
🕊️एक परिंदा उड़ चला....!
🕊️एक परिंदा उड़ चला....!
Srishty Bansal
*श्री हनुमंत चरित्र (कुंडलिया)*
*श्री हनुमंत चरित्र (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
अनिल कुमार
भौतिक युग की सम्पदा,
भौतिक युग की सम्पदा,
sushil sarna
प्रेम एक्सप्रेस
प्रेम एक्सप्रेस
Rahul Singh
इंसान बनने के लिए
इंसान बनने के लिए
Mamta Singh Devaa
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
जिस तरीके से तुम हो बुलंदी पे अपने
सिद्धार्थ गोरखपुरी
देवों की भूमि उत्तराखण्ड
देवों की भूमि उत्तराखण्ड
Ritu Asooja
We meet some people at a stage of life when we're lost or in
We meet some people at a stage of life when we're lost or in
पूर्वार्थ
दिल जीत लेगी
दिल जीत लेगी
Dr fauzia Naseem shad
*सांच को आंच नहीं*
*सांच को आंच नहीं*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
■ अलग नज़रिया...।
■ अलग नज़रिया...।
*प्रणय प्रभात*
2564.पूर्णिका
2564.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अछय तृतीया
अछय तृतीया
Bodhisatva kastooriya
" सब भाषा को प्यार करो "
DrLakshman Jha Parimal
**विकास**
**विकास**
Awadhesh Kumar Singh
भारत की है शान तिरंगा
भारत की है शान तिरंगा
surenderpal vaidya
dr arun kumar shastri -you are mad for a job/ service - not
dr arun kumar shastri -you are mad for a job/ service - not
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*रिश्ता होने से रिश्ता नहीं बनता,*
*रिश्ता होने से रिश्ता नहीं बनता,*
शेखर सिंह
चल अंदर
चल अंदर
Satish Srijan
किसी गैर के पल्लू से बंधी चवन्नी को सिक्का समझना मूर्खता होत
किसी गैर के पल्लू से बंधी चवन्नी को सिक्का समझना मूर्खता होत
विमला महरिया मौज
तुम्हें लिखना आसान है
तुम्हें लिखना आसान है
Manoj Mahato
Loading...