Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2023 · 1 min read

सितम तो ऐसा कि हम उसको छू नहीं सकते,

सितम तो ऐसा कि हम उसको छू नहीं सकते,
बड़ी तमन्ना थी जिससे लिपट के रोने की!!

~ विशाल बाबू ✍️✍️✍️

435 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मां की शरण
मां की शरण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
हक औरों का मारकर, बने हुए जो सेठ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पिता की दौलत न हो तो हर गरीब वर्ग के
पिता की दौलत न हो तो हर गरीब वर्ग के
Ranjeet kumar patre
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
माँ भारती के वरदपुत्र: नरेन्द्र मोदी
Dr. Upasana Pandey
संस्कृतियों का समागम
संस्कृतियों का समागम
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*कभी लगता है जैसे धर्म, सद्गुण का खजाना है (हिंदी गजल/गीतिका
*कभी लगता है जैसे धर्म, सद्गुण का खजाना है (हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
2389.पूर्णिका
2389.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Job can change your vegetables.
Job can change your vegetables.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नादान परिंदा
नादान परिंदा
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
तबकी  बात  और है,
तबकी बात और है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Bato ki garma garmi me
Bato ki garma garmi me
Sakshi Tripathi
समझ आये तों तज्जबो दीजियेगा
समझ आये तों तज्जबो दीजियेगा
शेखर सिंह
किसी नदी के मुहाने पर
किसी नदी के मुहाने पर
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
हुआ दमन से पार
हुआ दमन से पार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
मुॅंह अपना इतना खोलिये
मुॅंह अपना इतना खोलिये
Paras Nath Jha
मोहब्बत में जीत कहां मिलती है,
मोहब्बत में जीत कहां मिलती है,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
"महत्वाकांक्षा"
Dr. Kishan tandon kranti
भूल भूल हुए बैचैन
भूल भूल हुए बैचैन
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
ऐ ज़िन्दगी ..
ऐ ज़िन्दगी ..
Dr. Seema Varma
कविता
कविता
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
क्या कहा, मेरी तरह जीने की हसरत है तुम्हे
Vishal babu (vishu)
उतार देती हैं
उतार देती हैं
Dr fauzia Naseem shad
मुक्तक
मुक्तक
Yogmaya Sharma
ठगी
ठगी
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
Phool gufran
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिस सामाज में रहकर प्राणी ,लोगों को न पहचान सके !
जिस सामाज में रहकर प्राणी ,लोगों को न पहचान सके !
DrLakshman Jha Parimal
Loading...