Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Dec 2023 · 1 min read

साहित्य सृजन …..

सृजन ही साहित्य का श्रृंगार है ।
वैचारिक उत्कृष्टता का आधार है॥

उगते खामोशी की गहराईयों में
व्यक्त होते भावना के तल पर,
ह्रदय के आहत उच्छवासों में
अंकित होते कोरे कागज पर,
अक्षरों से अक्षरों का सम्मिलन
अर्थ देती शब्दों का भण्डार है।
वैचारिक उत्कृष्टता का आधार है॥

मन के कोमलतम भावों ने,
शब्दों के सागर को रुप दिया,
रस, छंद, स्वर, उपमाओं से
सृजन को नव पहचान दिया,
मानव मन के तड़पन में
विचारों की नवीनतम पतवार है।
वैचारिक उत्कृष्टता का आधार है॥

पंखुड़ियों पर पड़े हिमबिंदु
जब सीपज सा चमकते है,
करुणा से भरे हृदय में
चेतना का करते संचार है,
टुटते हुए सुनहरे स्वपनों का
सृजन ही आहत मन का सोपान है।
वैचारिक उत्कृष्टता का आधार है॥

निष्प्राण होती मानवता के
अनमोल पलों को समेट लो,
उजियारों के मोहक कानन से
जीवन के संदेश समेट लो,
आकुल हिय की पुकार में
सृष्टि का सृजन ही अलंकार है।
वैचारिक उत्कृष्टता का आधार है॥
*******

Language: Hindi
1 Comment · 139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Awadhesh Kumar Singh
View all
You may also like:
चाँद सा मुखड़ा दिखाया कीजिए
चाँद सा मुखड़ा दिखाया कीजिए
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Ek galti har roj kar rhe hai hum,
Ek galti har roj kar rhe hai hum,
Sakshi Tripathi
स्वयं की खोज कैसे करें
स्वयं की खोज कैसे करें
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
कर पुस्तक से मित्रता,
कर पुस्तक से मित्रता,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कबीर के राम
कबीर के राम
Shekhar Chandra Mitra
*सीता नवमी*
*सीता नवमी*
Shashi kala vyas
एक कवि की कविता ही पूजा, यहाँ अपने देव को पाया
एक कवि की कविता ही पूजा, यहाँ अपने देव को पाया
Dr.Pratibha Prakash
दृढ़
दृढ़
Sanjay ' शून्य'
किसी की परख
किसी की परख
*Author प्रणय प्रभात*
बच्चे कहाँ सोयेंगे...???
बच्चे कहाँ सोयेंगे...???
Kanchan Khanna
"जरा सुनो"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्ता
रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
Surinder blackpen
बेटियां
बेटियां
Neeraj Agarwal
3122.*पूर्णिका*
3122.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मां
मां
Monika Verma
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
Paras Nath Jha
विरह
विरह
Neelam Sharma
*होते यदि सीमेंट के, बोरे पीपा तेल (कुंडलिया)*
*होते यदि सीमेंट के, बोरे पीपा तेल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
झूठ के सागर में डूबते आज के हर इंसान को देखा
Er. Sanjay Shrivastava
मुक्तक
मुक्तक
Rashmi Sanjay
राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।
राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
उतर के आया चेहरे का नकाब उसका,
उतर के आया चेहरे का नकाब उसका,
कवि दीपक बवेजा
गरिमामय प्रतिफल
गरिमामय प्रतिफल
Shyam Sundar Subramanian
मनवा मन की कब सुने,
मनवा मन की कब सुने,
sushil sarna
-- लगन --
-- लगन --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
एक नज़्म - बे - क़ायदा
एक नज़्म - बे - क़ायदा
DR ARUN KUMAR SHASTRI
★बादल★
★बादल★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मॉडर्न किसान
मॉडर्न किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ठंड से काँपते ठिठुरते हुए
ठंड से काँपते ठिठुरते हुए
Shweta Soni
Loading...