Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2023 · 2 min read

साहसी बच्चे

साहसी बच्चे

अजय और संजय दोनों भाई एक ही स्कूल में पढ़ते थे। अजय 10 वीं और संजय 8 वीं कक्षा में थे। दोनों भाई न केवल पढ़ाई-लिखाई और खेलकूद में ही आगे रहते थे, बल्कि निडर और साहसी भी थे।
उनके पिताजी एक प्राइवेट फैक्ट्री में काम करते थे। उन्हें अपने काम के सिलसिले में अक्सर शहर से बाहर जाना पड़ता था।
एक दिन की बात है। अजय और संजय रोज की तरह स्कूल गए हुए थे। उनकी माँ घर में अकेली थी। तभी डोरबेल बजी। ‘पोस्टमैन’ बाहर से बाहर से आवाज आयी।
‘‘आती हूँ, जरा रूको।’’ माँ ने कहा और दरवाजा खोल दिया।
दरवाजा खोलते ही दो हट्टे-कट्टे युवक जबरन घर के भीतर घुस आए और उन्होंने दरवाजा अंदर से बंद कर दिया।
माँ कुछ समझ पातीं, इससे पहले एक युवक ने लपक कर उनका मुँह बंद कर दिया और कहा- ‘‘खबरदार, मुँह से एक भी शब्द निकला तो बंदुक की छहों गोली तुम्हारे सिर में होंगी।’’
एक चोर ने अजय की माँ को कुर्सी से बाँध दिया और उनसे घर के कीमती सामान और रुपयों के बारे में पूछने लगा। दूसरा चोर घर के कीमती सामानों को इकट्ठा करने लगा।
अभी यह सब चल रहा था कि डोरबेल बजी। चोर चौंक पड़े और सोचने लगे कि दरवाजा खोलें या नही। इधर अजय और संजय को दरवाजा खुलने में देरी होने से आश्चर्य हुआ।
अजय ने दरवाजे के दो पट्टे के बीच की छेद से अंदर झाँका तो चौंक पड़ा। अंदर माँ को कुर्सी से बंधा देख वह समझ गया कि जरूर कुछ गड़बड़ है। अजय का दिमाग तेजी से काम करने लगा। उसने संजय से कहा कि वह छिपकर चोरों पर निगरानी रखे। उसने स्वयं बिना देर किए पास के टेलीफोन बूथ से पोलिस स्टेशन को सूचित कर दिया।
दिनदहाड़े चोरी की बात सुनकर पुलिस वाले भी तुरंत बताए हुए पते पर पहुँच गए। तब तक अजय घर के पिछवाड़े का दरवाजा बाहर से बंद कर चुका था।
अब घर से बाहर निकलने का एक ही दरवाजा था। पुलिस वाले दरवाजे की दोनों ओर चुपचाप खड़े होकर चोरों के बाहर निकलने की प्रतीक्षा करने लगे।
उधर दोनों चोर सारे कीमती सामान और नगदी दो अटैचियों में बंद कर जाने के लिए जैसे ही दरवाजे से बाहर निकले पुलिस वालों ने उन्हें आसानी से पकड़ लिया।
सभी ने अजय और संजय की खूब प्रशंसा की, जिनकी सूझबूझ और हिम्मत से दोनों चोर रंगे हाथों पकड़े गए।
डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
81 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2566.पूर्णिका
2566.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ये कैसा घर है. . .
ये कैसा घर है. . .
sushil sarna
हिन्द के बेटे
हिन्द के बेटे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दीप्ति
दीप्ति
Kavita Chouhan
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
अब जीत हार की मुझे कोई परवाह भी नहीं ,
गुप्तरत्न
*मिलिए उनसे जो गए, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
*मिलिए उनसे जो गए, तीर्थ अयोध्या धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हसरतों की भी एक उम्र होनी चाहिए।
हसरतों की भी एक उम्र होनी चाहिए।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
ओ! महानगर
ओ! महानगर
Punam Pande
नीची निगाह से न यूँ नये फ़ित्ने जगाइए ।
नीची निगाह से न यूँ नये फ़ित्ने जगाइए ।
Neelam Sharma
आदि शक्ति माँ
आदि शक्ति माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरी फितरत
मेरी फितरत
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
Poonam Matia
चुनाव
चुनाव
Mukesh Kumar Sonkar
नारी जीवन
नारी जीवन
Aman Sinha
पर्यावरण
पर्यावरण
Dinesh Kumar Gangwar
"तू ठहरा सूरज"
Dr. Kishan tandon kranti
बहुत गुमाँ है समुंदर को अपनी नमकीन जुबाँ का..!
बहुत गुमाँ है समुंदर को अपनी नमकीन जुबाँ का..!
'अशांत' शेखर
खिड़कियाँ -- कुछ खुलीं हैं अब भी - कुछ बरसों से बंद हैं
खिड़कियाँ -- कुछ खुलीं हैं अब भी - कुछ बरसों से बंद हैं
Atul "Krishn"
Acrostic Poem
Acrostic Poem
jayanth kaweeshwar
चिड़िया रानी
चिड़िया रानी
नन्दलाल सुथार "राही"
हकीकत उनमें नहीं कुछ
हकीकत उनमें नहीं कुछ
gurudeenverma198
शब्द-वीणा ( समीक्षा)
शब्द-वीणा ( समीक्षा)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सूत जी, पुराणों के व्याख्यान कर्ता ।।
सूत जी, पुराणों के व्याख्यान कर्ता ।।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
नीर क्षीर विभेद का विवेक
नीर क्षीर विभेद का विवेक
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्रशंसा नहीं करते ना देते टिप्पणी जो ,
प्रशंसा नहीं करते ना देते टिप्पणी जो ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
तेरी पल पल राह निहारु मैं,श्याम तू आने का नहीं लेता नाम, लगत
तेरी पल पल राह निहारु मैं,श्याम तू आने का नहीं लेता नाम, लगत
Vandna thakur
मंत्र: श्वेते वृषे समारुढा, श्वेतांबरा शुचि:। महागौरी शुभ दध
मंत्र: श्वेते वृषे समारुढा, श्वेतांबरा शुचि:। महागौरी शुभ दध
Harminder Kaur
आओ थोड़ा जी लेते हैं
आओ थोड़ा जी लेते हैं
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सब्जियां सर्दियों में
सब्जियां सर्दियों में
Manu Vashistha
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
तेरे बिछड़ने पर लिख रहा हूं ग़ज़ल की ये क़िताब,
Sahil Ahmad
Loading...