Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

सावन

बरसता है ये सावन जब, तो कोई याद आता है
निगाहों से उतर कोई, मेरे दिल में समाता है,
ये भीगी शाम की पलकों में सजते अनगिनत सपने,
कोई हौले से छूकर बंद पलकें खोल जाता है।

ये छमछम करती बूंदें जब गिरे मेरे कपोलों पर
घटाओं का ये कोलाहल हो अपने पूरे यौवन पर
ये खनखन चूड़ियों की पूछती ऐ री सखी अब सुन
वो साजन कौन है बनके घटा तुझको रुलाता है

वही रस्ते,वही मंजर,वही महकी फिज़ाएं हैं
मचलती बिजलियां है जो,वो मेरे साजन की अदाएं हैं,
ये सीली-सीली पुरवाई मेरे कानों में कहती है,
तेरे साजन औ सावन का, कई सदियों का नाता है

सखी री सुन मेरे साजन से मेरी आरज़ू कह दे,
सज़ा कोई मुकर्रर हो,वफा इतनी सी वो कर दें,
कि उनके सामने मेरी नजर ऊँची नहीं होती,
अगर नज़रें इनायत हों तो ,करार इस दिल को आता है

145 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Madhavi Srivastava
View all
You may also like:
सताया ना कर ये जिंदगी
सताया ना कर ये जिंदगी
Rituraj shivem verma
3452🌷 *पूर्णिका* 🌷
3452🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
हक़ीक़त ने
हक़ीक़त ने
Dr fauzia Naseem shad
एक संदेश युवाओं के लिए
एक संदेश युवाओं के लिए
Sunil Maheshwari
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
इश्क़ मत करना ...
इश्क़ मत करना ...
SURYA PRAKASH SHARMA
अगर दिल में प्रीत तो भगवान मिल जाए।
अगर दिल में प्रीत तो भगवान मिल जाए।
Priya princess panwar
👌कही/अनकही👌
👌कही/अनकही👌
*प्रणय प्रभात*
चीं-चीं करती गौरैया को, फिर से हमें बुलाना है।
चीं-चीं करती गौरैया को, फिर से हमें बुलाना है।
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
Bad in good
Bad in good
Bidyadhar Mantry
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और      को छोड़कर
वह फिर से छोड़ गया है मुझे.....जिसने किसी और को छोड़कर
Rakesh Singh
*सर्दी की धूप*
*सर्दी की धूप*
Dr. Priya Gupta
यदि कोई आपकी कॉल को एक बार में नहीं उठाता है तब आप यह समझिए
यदि कोई आपकी कॉल को एक बार में नहीं उठाता है तब आप यह समझिए
Rj Anand Prajapati
निंदा और निंदक,प्रशंसा और प्रशंसक से कई गुना बेहतर है क्योंक
निंदा और निंदक,प्रशंसा और प्रशंसक से कई गुना बेहतर है क्योंक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
" नारी का दुख भरा जीवन "
Surya Barman
यौवन रुत में नैन जब, करें वार पर  वार ।
यौवन रुत में नैन जब, करें वार पर वार ।
sushil sarna
अतीत
अतीत
Neeraj Agarwal
# कुछ देर तो ठहर जाओ
# कुछ देर तो ठहर जाओ
Koमल कुmari
"" *भगवान* ""
सुनीलानंद महंत
इश्क़ में सरेराह चलो,
इश्क़ में सरेराह चलो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
आज बाजार बन्द है
आज बाजार बन्द है
gurudeenverma198
सियासत में आकर।
सियासत में आकर।
Taj Mohammad
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
ग़ज़ल कहूँ तो मैं ‘असद’, मुझमे बसते ‘मीर’
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"चाँद बीबी"
Dr. Kishan tandon kranti
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
कुत्ते / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
चिंतन
चिंतन
ओंकार मिश्र
जीव-जगत आधार...
जीव-जगत आधार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
हिंदी भाषा हमारी आन बान शान...
Harminder Kaur
Loading...