Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Aug 2016 · 1 min read

सावन-भादो

सावन भादो तुम जरा ,बरसो दिल के गाँव
तपन जरा इसकी हरो , बादल की दो छाँव
अश्कों ने बहकर हरे, थोड़े दिल के दर्द
तुम भी आ खेलो जरा , खुशियों के कुछ दाँव

डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
5 Comments · 447 Views
You may also like:
✍️हम बगावत हो जायेंगे✍️
'अशांत' शेखर
समय का महत्व ।
Nishant prakhar
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
जुदाई की शाम
Shekhar Chandra Mitra
माँ
Dr. Meenakshi Sharma
عجیب دور حقیقت کو خواب لکھنے لگے۔
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
कह दूँ बात तो मुश्किल
Dr. Sunita Singh
Red Rose
Buddha Prakash
जीवन क्षणभंगुरता का मर्म समझने में निकल जाती है।
Manisha Manjari
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
ईश्वर की ठोकर
Vikas Sharma'Shivaaya'
नहीं हूँ देवता पर पाँव की ठोकर नहीं बनता
Anis Shah
💐भगवतः स्मृति: च सेवा च महत्ववान्💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Writing Challenge- दिशा (Direction)
Sahityapedia
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
तुम कैसे रहते हो।
Taj Mohammad
तूने किया हलाल
Jatashankar Prajapati
प्यार झूठा
Alok Vaid Azad
* रौशनी उसकी *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गज़ल
Saraswati Bajpai
माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*होता कभी बिछोह 【 गीत 】*
Ravi Prakash
देख करके फूल उनको
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
ये सिर्फ मैं जानता हूँ
Swami Ganganiya
पिता
Neha Sharma
बाल श्रम विरोधी
Utsav Kumar Aarya
प्रदूषण के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
-------------------हिन्दी दिवस ------------------
Tribhuwan mishra 'Chatak'
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...