Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#1 Trending Author
Aug 1, 2016 · 1 min read

सावन-भादो

सावन भादो तुम जरा ,बरसो दिल के गाँव
तपन जरा इसकी हरो , बादल की दो छाँव
अश्कों ने बहकर हरे, थोड़े दिल के दर्द
तुम भी आ खेलो जरा , खुशियों के कुछ दाँव

डॉ अर्चना गुप्ता

5 Comments · 375 Views
You may also like:
शून्य है कमाल !
Buddha Prakash
ये दिल टूटा है।
Taj Mohammad
अदम्य जिजीविषा के धनी श्री राम लाल अरोड़ा जी
Ravi Prakash
इस तरहां ऐसा स्वप्न देखकर
gurudeenverma198
पानी का दर्द
Anamika Singh
मित्र
Vijaykumar Gundal
मुकरिया__ चाय आसाम वाली
Manu Vashistha
ईश्वर के संकेत
Dr. Alpa H. Amin
💐प्रेम की राह पर-27💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
किसान की आत्मकथा
"अशांत" शेखर
💐प्रेम की राह पर-32💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हर रोज योग करो
Krishan Singh
झूला सजा दो
Buddha Prakash
स्वादिष्ट खीर
Buddha Prakash
जिदंगी के कितनें सवाल है।
Taj Mohammad
यक्ष प्रश्न ( लघुकथा संग्रह)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
* प्रेमी की वेदना *
Dr. Alpa H. Amin
बाबा ब्याह ना देना,,,
Taj Mohammad
दो दिलों का मेल है ये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता, इन्टरनेट युग में
Shaily
सोंच समझ....
Dr. Alpa H. Amin
✍️मैंने पूछा कलम से✍️
"अशांत" शेखर
भगवान परशुराम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
【7】** हाथी राजा **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जग के पिता
DESH RAJ
आंखों का वास्ता।
Taj Mohammad
दिल से निकले हुए कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
आप कौन है
Sandeep Albela
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
غزل
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
Loading...