Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2023 · 1 min read

सावन का महीना है भरतार

सावन का महीना है भरतार,
तू मुझे झूला झुलाने आइयो,
तू मुझे झूला झुलाने आइयो,
मै करूंगी तेरा इंतज़ार।।

हाथो की चूड़ियां लाना,
पैरो के बिछवे लाना,
मांग का सिंदूर लाना,
क्रीम पाउडर भी लाना,
मै करूंगी सोलह सिंगार,
सावन का महीना है भरतार।।

कानो के कुंडल लाना,
माथे का टीका लाना,
नाक की नाथ भी लाना,
माथे की बिंदिया लाना,
भूलना ना गले का हार।
सावन का महीना है भरतार।।

बालों के लिए गजरा लाना,
आंखों के लिए सुरमा लाना,
पैरो के लिए पायल लाना,
हाथो के लिए कंगन लाना,
मै सजुगी तेरे लिए भरतार।
सावन का महीना है भरतार।।

रेशम की डोरी लाना,
चांदी का पट्टा लाना,
ढोलक मंजीरा लाना,
संगीत की धूम मचाना,
तू झोटे देना मुझको यार।
सावन का महीना है भरतार।।

घाघरा चुनरी मत लाना,
साड़ी जम्फर मत लाना,
ये फैशन से अब बाहर,
केवल जींस टॉप ही लाना,
मै मैम बनूंगी तेरी यार,
सावन का महीना है भरतार।।

अब बागो में झूले नही डलते,
अब केवल पिकनिक पर चलते,
इंग्लिश मूवी हम देखेंगे,
मस्ती दोनो हम करेंगे,
फिर जाएंगे दोनो डांस बार।
सावन का महीना है भरतार।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम
मो 9971006425

Language: Hindi
2 Likes · 3 Comments · 535 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
खुद पर विश्वास करें
खुद पर विश्वास करें
Dinesh Gupta
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
पूर्वार्थ
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
जिंदगी की राहों पे अकेले भी चलना होगा
VINOD CHAUHAN
महायोद्धा टंट्या भील के पदचिन्हों पर चलकर महेंद्र सिंह कन्नौज बने मुफलिसी आवाम की आवाज: राकेश देवडे़ बिरसावादी
महायोद्धा टंट्या भील के पदचिन्हों पर चलकर महेंद्र सिंह कन्नौज बने मुफलिसी आवाम की आवाज: राकेश देवडे़ बिरसावादी
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
प्रकृति
प्रकृति
Bodhisatva kastooriya
سب کو عید مبارک ہو،
سب کو عید مبارک ہو،
DrLakshman Jha Parimal
जिंदगी और जीवन में अंतर हैं
जिंदगी और जीवन में अंतर हैं
Neeraj Agarwal
पर्यावरण दिवस
पर्यावरण दिवस
Satish Srijan
*नेता जी के घर मिले, नोटों के अंबार (कुंडलिया)*
*नेता जी के घर मिले, नोटों के अंबार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
रिश्ते
रिश्ते
Harish Chandra Pande
कभी कभी
कभी कभी
Sûrëkhâ
...और फिर कदम दर कदम आगे बढ जाना है
...और फिर कदम दर कदम आगे बढ जाना है
'अशांत' शेखर
कृतज्ञ बनें
कृतज्ञ बनें
Sanjay ' शून्य'
भ्रम
भ्रम
Shiva Awasthi
सारी रात मैं किसी के अजब ख़यालों में गुम था,
सारी रात मैं किसी के अजब ख़यालों में गुम था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
हिन्दी दोहा- बिषय- कौड़ी
हिन्दी दोहा- बिषय- कौड़ी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।
किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।
Manisha Manjari
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं – व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
क्या लिखूँ....???
क्या लिखूँ....???
Kanchan Khanna
ना मुमकिन
ना मुमकिन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2692.*पूर्णिका*
2692.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
* आ गया बसंत *
* आ गया बसंत *
surenderpal vaidya
जो लिखा है
जो लिखा है
Dr fauzia Naseem shad
समझदारी ने दिया धोखा*
समझदारी ने दिया धोखा*
Rajni kapoor
कितना भी  कर लो जतन
कितना भी कर लो जतन
Paras Nath Jha
राम आधार हैं
राम आधार हैं
Mamta Rani
क्यों मानव मानव को डसता
क्यों मानव मानव को डसता
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
मंजिलें
मंजिलें
Mukesh Kumar Sonkar
दोहा पंचक. . . नारी
दोहा पंचक. . . नारी
sushil sarna
Loading...