Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

हो सावन की मदमस्त घटा तुम

हो सावन की मदमस्त घटा तुम
आ जाओ मेरे आँगन झुमेंगे नाचेंगे हम !

नींद चुराने वाली
सपनो में आने वाली
महकी पुरवा हो तुम
जुबाँ मेरी गा रही
तेरी चाहत की धुन ….
हो सावन की मदमस्त घटा तुम
आ जाओ मेरे आँगन झुमेंगे नाचेंगे हम !!

हँसते हैं,रोते हैं
तुझे याद करके अब
दिल हो जाता हैं बेचैन
आती नही हो नज़र जब तुम ….
हो सावन की मदमस्त घटा तुम
आ जाओ मेरे आँगन झुमेंगे नाचेंगे हम !!

मैं दीवाना हू तेरा बचपन से
न तड़पाओ ऐसे इस कदर मेरे यार
कि हैं तुम्हारी वर्षो से इंतज़ार
सहा हैं दर्द मैने हजार ….
हो सावन की मदमस्त घटा तुम
आ जाओ मेरे आँगन झुमेँगे नाचेंगे हम !!

दिल की दुरियाँ मिटा दो नजदिक आके
यकिन कर लो सिर्फ तुमसे हैं प्यार
उम्रभर रहेंगे बनके साया तुम्हारी
तुमसे बिछड़ के मर जायेंगे यार ….
हो सावन की मदमस्त घटा तुम
आ जाओ मेरे आँगन झुमेंगे नाचेंगे हम !!

पास आओ दिल चुराओ
दामन थामो न
तुझे देख मुस्कुरायेंगे हम
तेरी आचल मे छुप जायेंगे हम ….
हो सावन की मदमस्त घटा तुम
आ जाओ मेरे आँगन झुमेंगे नाचेंगे हम !!!

3 Comments · 196 Views
You may also like:
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
सुबह आंख लग गई
Ashwani Kumar Jaiswal
ज़ालिम दुनियां में।
Taj Mohammad
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
💐💐स्वरूपे कोलाहल: नैव💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अक्षय तृतीया की हार्दिक शुभकामनाएं
sheelasingh19544 Sheela Singh
मित्र
Vijaykumar Gundal
मेहरबानी
"अशांत" शेखर
हादसा
श्याम सिंह बिष्ट
दुनियाँ की भीड़ में।
Taj Mohammad
हिंदी से प्यार करो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वृक्ष की अभिलाषा
डॉ. शिव लहरी
【19】 मधुमक्खी
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
तू एक बार लडका बनकर देख
Abhishek Upadhyay
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
नारियल
Buddha Prakash
✍️दम-भर ✍️
"अशांत" शेखर
वो आवाज
Mahendra Rai
पिता
कुमार अविनाश केसर
पिता का पता
श्री रमण
भारत
Vijaykumar Gundal
ज़रा सी देर में सूरज निकलने वाला है
Dr. Sunita Singh
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
ईद की दिली मुबारक बाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खुशबू चमन की किसको अच्छी नहीं लगती।
Taj Mohammad
बेपनाह गम था।
Taj Mohammad
दिल का करार।
Taj Mohammad
आओ अब लौट चलें वह देश ..।
Buddha Prakash
✍️कबीरा बोल...✍️
"अशांत" शेखर
Loading...