Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2023 · 1 min read

सावन‌ आया

सावन आया भोले बाबा के साथ आया है।
जीवन और स्वस्थ्य शरीर को लुभाया है।

सावन की फूहारों में मस्ती का मौसम छाया है
कवांरियों के रंग घुंघरूओं ने छम छम गाया हैं

सावन आया सावन आया जन जन‌ को भाया हैं
मस्त मस्त उमंग के साथ दिल में चाहत आयी हैं

सावन‌ की घटाओं ने झूम झूम मौसम बनाया है
बम बम भोले के साथ साथ भक्ति से गाया है

शाम सवेरे सावन‌ में शिव शम्भू मन भावों छाया है
हर हर महादेव हम सभी भक्तों ने प्रेम से गाया है

तेरा सावन‌ मेरा मन भावन संग साथ निभाया हैं
गौरा संग महादेव ने रास भक्ति में बताया हैं

आओ सावन‌ में झूला झूले मल्हार मन भाया है
सावन आया रे सावन‌ आया रे मस्ती लाया है।

नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कठोर व कोमल
कठोर व कोमल
surenderpal vaidya
अक़ीदत से भरे इबादत के 30 दिनों के बाद मिले मसर्रत भरे मुक़द्द
अक़ीदत से भरे इबादत के 30 दिनों के बाद मिले मसर्रत भरे मुक़द्द
*प्रणय प्रभात*
केना  बुझब  मित्र आहाँ केँ कहियो नहिं गप्प केलहूँ !
केना बुझब मित्र आहाँ केँ कहियो नहिं गप्प केलहूँ !
DrLakshman Jha Parimal
हिस्सा,,,,
हिस्सा,,,,
Happy sunshine Soni
हिन्दी ग़ज़ल के कथ्य का सत्य +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़ल के कथ्य का सत्य +रमेशराज
कवि रमेशराज
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि दुनिया में ‌जितना बदलाव हमा
मेरा हमेशा से यह मानना रहा है कि दुनिया में ‌जितना बदलाव हमा
Rituraj shivem verma
"एहसानों के बोझ में कुछ यूं दबी है ज़िंदगी
गुमनाम 'बाबा'
कविता
कविता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*शादी को जब हो गए, पूरे वर्ष पचास*(हास्य कुंडलिया )
*शादी को जब हो गए, पूरे वर्ष पचास*(हास्य कुंडलिया )
Ravi Prakash
अंतस का तम मिट जाए
अंतस का तम मिट जाए
Shweta Soni
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
"शब्दों का संसार"
Dr. Kishan tandon kranti
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
दीप जलते रहें - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मूर्ख व्यक्ति से ज्यादा, ज्ञानी धूर्त घातक होते हैं।
मूर्ख व्यक्ति से ज्यादा, ज्ञानी धूर्त घातक होते हैं।
पूर्वार्थ
क्या सत्य है ?
क्या सत्य है ?
Buddha Prakash
.
.
Ragini Kumari
मेरा दामन भी तार-तार रहा
मेरा दामन भी तार-तार रहा
Dr fauzia Naseem shad
बदला सा व्यवहार
बदला सा व्यवहार
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
उलझते रिश्तो में मत उलझिये
उलझते रिश्तो में मत उलझिये
Harminder Kaur
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Kanchan Khanna
माना सांसों के लिए,
माना सांसों के लिए,
शेखर सिंह
बिन सूरज महानगर
बिन सूरज महानगर
Lalit Singh thakur
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सत्य
सत्य
Seema Garg
खालीपन
खालीपन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
आपसे गुफ्तगू ज़रूरी है
Surinder blackpen
3115.*पूर्णिका*
3115.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कौन कहता है कि नदी सागर में
कौन कहता है कि नदी सागर में
Anil Mishra Prahari
शेष न बचा
शेष न बचा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
Loading...