Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2017 · 1 min read

साल जाते हैं, तो आते भी हैं ।

साल जाते हैं, तो आते भी हैं ।
ग़र ये रोते हैं, तो गाते भी हैं ।।
ग़म के सागर में डुबोया इनने,
किन्तु अपने हैं, तो भाते भी हैं ।।
वक्त में कुछ खटाई-सी भरके,
अह़सास-ए-ज़िंदगी कराते भी हैं।
लेके जाते हैं ग़र ख़ुशियाँ सारीं ,
तो ये सौगात नई , लाते भी हैं ।।
झूमकर गा उठें, भँवरे जिनपर ,
बाग-ए-ग़ुल ऐंसा खिलाते भी हैं ।।
ग़म-ए-दरिया में तैरकर ,यारो !
किश्ती साहिल पै ये लाते भी हैं ।।
ये ग़ुजरते हैं, ग़ुजरेंगे हमारे जैसे,
ले के जाते है , तो लाते भी हैं ।
इनमें रहना है और रहना होगा ,
साल-दर-साल ये, आते भी हैं ।

5 Likes · 4 Comments · 895 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"ऐसा करें कुछ"
Dr. Kishan tandon kranti
प्रश्नपत्र को पढ़ने से यदि आप को पता चल जाय कि आप को कौन से
प्रश्नपत्र को पढ़ने से यदि आप को पता चल जाय कि आप को कौन से
Sanjay ' शून्य'
हो मेहनत सच्चे दिल से,अक्सर परिणाम बदल जाते हैं
हो मेहनत सच्चे दिल से,अक्सर परिणाम बदल जाते हैं
पूर्वार्थ
चिट्ठी   तेरे   नाम   की, पढ लेना करतार।
चिट्ठी तेरे नाम की, पढ लेना करतार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कलेवा
कलेवा
Satish Srijan
आप हर किसी के लिए अच्छा सोचे , उनके अच्छे के लिए सोचे , अपने
आप हर किसी के लिए अच्छा सोचे , उनके अच्छे के लिए सोचे , अपने
Raju Gajbhiye
24, *ईक्सवी- सदी*
24, *ईक्सवी- सदी*
Dr Shweta sood
धर्मांध
धर्मांध
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
स्वतंत्र नारी
स्वतंत्र नारी
Manju Singh
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
माँ दुर्गा मुझे अपना सहारा दो
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
बनी दुलहन अवध नगरी, सियावर राम आए हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
न पूछो हुस्न की तारीफ़ हम से,
न पूछो हुस्न की तारीफ़ हम से,
Vishal babu (vishu)
गुम है सरकारी बजट,
गुम है सरकारी बजट,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नज़्म - झरोखे से आवाज
नज़्म - झरोखे से आवाज
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
क्राई फॉर लव
क्राई फॉर लव
Shekhar Chandra Mitra
3475🌷 *पूर्णिका* 🌷
3475🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
पत्नी की खोज
पत्नी की खोज
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
नैतिकता की नींव पर प्रारंभ किये गये किसी भी व्यवसाय की सफलता
नैतिकता की नींव पर प्रारंभ किये गये किसी भी व्यवसाय की सफलता
Paras Nath Jha
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका  आकार बदल  जाता ह
जिस प्रकार लोहे को सांचे में ढालने पर उसका आकार बदल जाता ह
Jitendra kumar
*पिता (सात दोहे )*
*पिता (सात दोहे )*
Ravi Prakash
अपनी कलम से.....!
अपनी कलम से.....!
singh kunwar sarvendra vikram
उदयमान सूरज साक्षी है ,
उदयमान सूरज साक्षी है ,
Vivek Mishra
खुद से सिफारिश कर लेते हैं
खुद से सिफारिश कर लेते हैं
Smriti Singh
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
तेवरी इसलिए तेवरी है [आलेख ] +रमेशराज
कवि रमेशराज
ऐसी विकट परिस्थिति,
ऐसी विकट परिस्थिति,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बुंदेली साहित्य- राना लिधौरी के दोहे
बुंदेली साहित्य- राना लिधौरी के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पुनर्जन्म का साथ
पुनर्जन्म का साथ
Seema gupta,Alwar
दोस्ती....
दोस्ती....
Harminder Kaur
बेरोज़गारी का प्रच्छन्न दैत्य
बेरोज़गारी का प्रच्छन्न दैत्य
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...