Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2016 · 1 min read

‘सामने होगा सागर’ …: छंद कुंडलिया.

सागर खोजा ज्ञान का, किन्तु मिली दो बूँद.
उन बूंदों में शिव-शिवा, बैठे आँखें मूँद.
बैठे आँखें मूँद, साधकर साधक मन को.
बाँटें ज्ञान सहेज, भूलकर भौतिक तन को.
सबकी दो-दो बूँद, मिलाकर भर दें गागर
गागर-गागर जोड़, सामने होगा सागर..

इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

282 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*अज्ञानी की कलम  *शूल_पर_गीत*
*अज्ञानी की कलम *शूल_पर_गीत*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
तेरी गली से निकलते हैं तेरा क्या लेते है
तेरी गली से निकलते हैं तेरा क्या लेते है
Ram Krishan Rastogi
"सन्देश"
Dr. Kishan tandon kranti
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
बेसबब हैं ऐशो इशरत के मकाँ
अरशद रसूल बदायूंनी
सभ प्रभु केऽ माया थिक...
सभ प्रभु केऽ माया थिक...
मनोज कर्ण
सबके हाथ में तराजू है ।
सबके हाथ में तराजू है ।
Ashwini sharma
Though of the day 😇
Though of the day 😇
ASHISH KUMAR SINGH
*आवारा कुत्तों की समस्या 【हास्य व्यंग्य】*
*आवारा कुत्तों की समस्या 【हास्य व्यंग्य】*
Ravi Prakash
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
Sampada
कार्यशैली और विचार अगर अनुशासित हो,तो लक्ष्य को उपलब्धि में
कार्यशैली और विचार अगर अनुशासित हो,तो लक्ष्य को उपलब्धि में
Paras Nath Jha
आ गए हम तो बिना बुलाये तुम्हारे घर
आ गए हम तो बिना बुलाये तुम्हारे घर
gurudeenverma198
बेटी के जीवन की विडंबना
बेटी के जीवन की विडंबना
Rajni kapoor
भगतसिंह की देन
भगतसिंह की देन
Shekhar Chandra Mitra
युद्ध नहीं जिनके जीवन में,
युद्ध नहीं जिनके जीवन में,
Sandeep Mishra
दोहा -स्वागत
दोहा -स्वागत
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
#आज_का_संदेश
#आज_का_संदेश
*Author प्रणय प्रभात*
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
बसुधा ने तिरंगा फहराया ।
Kuldeep mishra (KD)
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
शमा से...!!!
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
बम
बम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जो आपका गुस्सा सहन करके भी आपका ही साथ दें,
जो आपका गुस्सा सहन करके भी आपका ही साथ दें,
Ranjeet kumar patre
फ़ेहरिस्त रक़ीबों की, लिखे रहते हो हाथों में,
फ़ेहरिस्त रक़ीबों की, लिखे रहते हो हाथों में,
Shreedhar
Agar padhne wala kabil ho ,
Agar padhne wala kabil ho ,
Sakshi Tripathi
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
काव्य की आत्मा और रीति +रमेशराज
कवि रमेशराज
“गुरुनानक जयंती 08 नवम्बर 2022 पर विशेष” : आदर एवं श्रद्धा के प्रतीक -गुरुनानक देव
“गुरुनानक जयंती 08 नवम्बर 2022 पर विशेष” : आदर एवं श्रद्धा के प्रतीक -गुरुनानक देव
सत्य भूषण शर्मा
जीने की तमन्ना में
जीने की तमन्ना में
Satish Srijan
23/130.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/130.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेरी खुशबू
तेरी खुशबू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
हमारा संघर्ष
हमारा संघर्ष
पूर्वार्थ
Loading...