Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

* सामने आ गये *

** गीतिका **
~~
सामने आ गये मुस्कुराते हुए।
जल उठे हैं ह्रदय में अनेकों दिए।

अब हमें यह पता चल गया क्या कहें।
हम निशा में भटकते हुए क्यों जिए।

आ गई ज्यों दिवाली हमें यूं लगा।
जिन्दगी पर्व है आस नूतन लिए।

टिमटिमाते रहे आसमां पर बहुत।
कुछ सितारे मगर टूटकर खो गए।

वक्त बीता सभी याद रखना हमें।
चाहिए आज साथी पुराने नए।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य

1 Like · 1 Comment · 100 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
हिन्दी दोहा बिषय-चरित्र
हिन्दी दोहा बिषय-चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ये मेरा हिंदुस्तान
ये मेरा हिंदुस्तान
Mamta Rani
बच्चों के खुशियों के ख़ातिर भूखे पेट सोता है,
बच्चों के खुशियों के ख़ातिर भूखे पेट सोता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
We just dream to  be rich
We just dream to be rich
Bhupendra Rawat
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Sakshi Tripathi
धर्म के रचैया श्याम,नाग के नथैया श्याम
धर्म के रचैया श्याम,नाग के नथैया श्याम
कृष्णकांत गुर्जर
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
Ravi Yadav
वो भारत की अनपढ़ पीढ़ी
वो भारत की अनपढ़ पीढ़ी
Rituraj shivem verma
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
🧟☠️अमावस की रात☠️🧟
SPK Sachin Lodhi
#बाउंसर :-
#बाउंसर :-
*प्रणय प्रभात*
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
युगों की नींद से झकझोर कर जगा दो मुझे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
श्री कृष्ण भजन
श्री कृष्ण भजन
Khaimsingh Saini
जन्माष्टमी महोत्सव
जन्माष्टमी महोत्सव
Neeraj Agarwal
क़ाबिल नहीं जो उनपे लुटाया न कीजिए
क़ाबिल नहीं जो उनपे लुटाया न कीजिए
Shweta Soni
माता पिता नर नहीं नारायण हैं ? ❤️🙏🙏
माता पिता नर नहीं नारायण हैं ? ❤️🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शृंगार छंद और विधाएँ
शृंगार छंद और विधाएँ
Subhash Singhai
ऐसे ही थोड़ी किसी का नाम हुआ होगा।
ऐसे ही थोड़ी किसी का नाम हुआ होगा।
Praveen Bhardwaj
दिल से ….
दिल से ….
Rekha Drolia
।2508.पूर्णिका
।2508.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ले चल मुझे भुलावा देकर
ले चल मुझे भुलावा देकर
Dr Tabassum Jahan
यह दुनिया भी बदल डालें
यह दुनिया भी बदल डालें
Dr fauzia Naseem shad
अपने तो अपने होते हैं
अपने तो अपने होते हैं
Harminder Kaur
* शक्ति है सत्य में *
* शक्ति है सत्य में *
surenderpal vaidya
दोनों हाथों की बुनाई
दोनों हाथों की बुनाई
Awadhesh Singh
"औकात"
Dr. Kishan tandon kranti
हंसी मुस्कान
हंसी मुस्कान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*तरबूज (बाल कविता)*
*तरबूज (बाल कविता)*
Ravi Prakash
........?
........?
शेखर सिंह
मोबाइल है हाथ में,
मोबाइल है हाथ में,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
♥️राधे कृष्णा ♥️
♥️राधे कृष्णा ♥️
Vandna thakur
Loading...