Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2023 · 1 min read

साड़ी हर नारी की शोभा

साड़ी हर नारी की शोभा है ,
अपितु साड़ी में ही नारी कि शोभा है ।

अति सुन्दर लगे गरिमा लिए हुए ,
संस्कार शीलता दर्शाती शोभा है ।

लज्जा की रक्षा करती घूंघट के सहारे,
सुंदरता को और निखारती यह शोभा है ।

वृद्ध जनों एवं गुरुजनों का आदर जिसमें ,
सर पर पल्लू आदर /सम्मान की शोभा है ।

साड़ी धर्म,जाति,ऊंच नीच की दीवारें तोड़,
अमीर गरीब सभी के तन की शोभा है ।

साड़ी रंग रूप न देखे,न देखे मोटी पतली ,
जैसी भी नारी पहने ,यह सबकी शोभा है ।

साड़ी लाए नारी के व्यक्तित्व पर निखार ,
आत्म विश्वास ,आत्म सम्मान और आत्म गौरव है।

साड़ी है नारी की सुंदरता का पैमाना,
न जाने क्यों सिने तारिकाएं क्यों न इसे अपनाए!
शामिल करें यदि इसे आदत में अपनी तो, देश की जनता का जायदा सम्मान पाएं ।

समाज की हर उम्र की नारी का सम्मान बढे
नारी जनित भीषण अपराध समाज में समाप्त हो जाएं ।

आखिरकार हमारे देश की संस्कृति और
सभ्यता की शोभा है सारी ।

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 808 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ये साल भी इतना FAST गुजरा की
ये साल भी इतना FAST गुजरा की
Ranjeet kumar patre
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
बंदिशें
बंदिशें
Kumud Srivastava
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
माया फील गुड की [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
फितरत
फितरत
Surya Barman
मुंहतोड़ जवाब मिलेगा
मुंहतोड़ जवाब मिलेगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
-- अंधभक्ति का चैम्पियन --
-- अंधभक्ति का चैम्पियन --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
आधुनिक समाज (पञ्चचामर छन्द)
नाथ सोनांचली
" भुला दिया उस तस्वीर को "
Aarti sirsat
तुम याद आ गये
तुम याद आ गये
Surinder blackpen
2947.*पूर्णिका*
2947.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ लघुकथा / सौदेबाज़ी
■ लघुकथा / सौदेबाज़ी
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन में प्राकृतिक ही  जिंदगी हैं।
जीवन में प्राकृतिक ही जिंदगी हैं।
Neeraj Agarwal
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
रचनात्मकता ; भविष्य की जरुरत
कवि अनिल कुमार पँचोली
नज़्म
नज़्म
Shiva Awasthi
ग़ज़ल:- तेरे सम्मान की ख़ातिर ग़ज़ल कहना पड़ेगी अब...
ग़ज़ल:- तेरे सम्मान की ख़ातिर ग़ज़ल कहना पड़ेगी अब...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
माफ़ कर दे कका
माफ़ कर दे कका
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
रेत मुट्ठी से फिसलता क्यूं है
रेत मुट्ठी से फिसलता क्यूं है
Shweta Soni
आभार
आभार
Sanjay ' शून्य'
लौट कर न आएगा
लौट कर न आएगा
Dr fauzia Naseem shad
तुम हो तो मैं हूँ,
तुम हो तो मैं हूँ,
लक्ष्मी सिंह
पेड़ से कौन बाते करता है ?
पेड़ से कौन बाते करता है ?
Buddha Prakash
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
उम्र गुजर जाती है किराए के मकानों में
करन ''केसरा''
अध खिला कली तरुणाई  की गीत सुनाती है।
अध खिला कली तरुणाई की गीत सुनाती है।
Nanki Patre
May 3, 2024
May 3, 2024
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
जैसे एकसे दिखने वाले नमक और चीनी का स्वाद अलग अलग होता है...
Radhakishan R. Mundhra
मूडी सावन
मूडी सावन
Sandeep Pande
Loading...