Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Dec 2023 · 1 min read

*साड़ी का पल्लू धरे, चली लजाती सास (कुंडलिया)*

साड़ी का पल्लू धरे, चली लजाती सास (कुंडलिया)
■■■■■■■■■■■■■■■
साड़ी का पल्लू धरे , चली लजाती सास
बहू जींस पहने हुए ,दिखती उसके पास
दिखती उसके पास ,बाँध साड़ी कब पाती
सीखी सौ – सौ बार ,मगर चुन्नट कब आती
कहते रवि कविराय ,समय की चलती गाड़ी
शादी या त्यौहार , रह गई केवल साड़ी
●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99976 15451

176 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
वक्त और रिश्ते
वक्त और रिश्ते
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
नील पदम् के दोहे
नील पदम् के दोहे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
ओमप्रकाश वाल्मीकि : व्यक्तित्व एवं कृतित्व
Dr. Narendra Valmiki
लहर-लहर दीखे बम लहरी, बम लहरी
लहर-लहर दीखे बम लहरी, बम लहरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अम्न का पाठ वो पढ़ाते हैं
अरशद रसूल बदायूंनी
जुग जुग बाढ़य यें हवात
जुग जुग बाढ़य यें हवात
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*हिंदी दिवस मनावन का  मिला नेक ईनाम*
*हिंदी दिवस मनावन का मिला नेक ईनाम*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नन्हीं बाल-कविताएँ
नन्हीं बाल-कविताएँ
Kanchan Khanna
■ शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर एक विशेष कविता...
■ शिक्षक दिवस की पूर्व संध्या पर एक विशेष कविता...
*प्रणय प्रभात*
गम और खुशी।
गम और खुशी।
Taj Mohammad
वापस आना वीर
वापस आना वीर
लक्ष्मी सिंह
* काव्य रचना *
* काव्य रचना *
surenderpal vaidya
"मुशाफिर हूं "
Pushpraj Anant
छंद
छंद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
I thought you're twist to what I knew about people of modern
I thought you're twist to what I knew about people of modern
Sukoon
जात-पांत और ब्राह्मण / डा. अम्बेडकर
जात-पांत और ब्राह्मण / डा. अम्बेडकर
Dr MusafiR BaithA
शाकाहारी
शाकाहारी
डिजेन्द्र कुर्रे
अब कौन-कौन परखेगा यूं हमें,
अब कौन-कौन परखेगा यूं हमें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
संस्कार में झुक जाऊं
संस्कार में झुक जाऊं
Ranjeet kumar patre
.......,,
.......,,
शेखर सिंह
*जन्मदिवस पर केक ( बाल कविता )*
*जन्मदिवस पर केक ( बाल कविता )*
Ravi Prakash
शायर तो नहीं
शायर तो नहीं
Bodhisatva kastooriya
किसी को उदास पाकर
किसी को उदास पाकर
Shekhar Chandra Mitra
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
इस गोशा-ए-दिल में आओ ना
इस गोशा-ए-दिल में आओ ना
Neelam Sharma
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
तुम चंद्रछवि मृगनयनी हो, तुम ही तो स्वर्ग की रंभा हो,
तुम चंद्रछवि मृगनयनी हो, तुम ही तो स्वर्ग की रंभा हो,
SPK Sachin Lodhi
सहयोग आधारित संकलन
सहयोग आधारित संकलन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
खेल भावनाओं से खेलो, जीवन भी है खेल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चित्र आधारित चौपाई रचना
चित्र आधारित चौपाई रचना
गुमनाम 'बाबा'
Loading...