Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Aug 2016 · 1 min read

साक्षी और संधू हमे आप पर गर्व है

साक्षी संधू हमें तुम पर गर्व है

छोटे छोटे गांव से,छोटे छोटे राज्य से
नारी को पुकारती,जय हो भारत माँ भारती
जयति जय माँ भारती
जय हो भारत भारती

शक्ति तुम समुज्ज्वला,नारी हो तू उज्ज्वला
ज्ञान वोध सत्यता,प्रखर मुखर प्रकीर्णता
सभ्यता संभालती ————–
जय हो भारत—-

लक्ष्य को तू भेद दे,संतति को तू लक्ष्य दे
शस्त्र को फिर थाम ले,अस्त्र से तू काम ले
चण्डी बन संहारती
जय हो भारत ——–

साक्षी साक्ष्य इतिहास की,साहस शक्ति सामर्थ्य की
ये कांस्य एक आरम्भ है,प्रचण्डता प्रारम्भ है
विजय श्री संभालती
जय हो भारत ————

गर्व गर्वित संधू है,धैर्य शांत सिंधु है
गौरव बनी हो राष्ट्र का,उपलब्धि रजत पर्व है
वर्चस्व को संभालती
जय हो भारत माँ भारती

??�??�??�??

Language: Hindi
16 Likes · 1 Comment · 472 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु...या...पा में संलिप्त
ज़िंदगी को अगर स्मूथली चलाना हो तो चु...या...पा में संलिप्त
Dr MusafiR BaithA
अमीर-गरीब के दरमियाॅ॑ ये खाई क्यों है
अमीर-गरीब के दरमियाॅ॑ ये खाई क्यों है
VINOD CHAUHAN
हसलों कि उड़ान
हसलों कि उड़ान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यदि चाहो मधुरस रिश्तों में
यदि चाहो मधुरस रिश्तों में
संजीव शुक्ल 'सचिन'
वापस
वापस
Harish Srivastava
"संयोग-वियोग"
Dr. Kishan tandon kranti
मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि
मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
" शांत शालीन जैसलमेर "
Dr Meenu Poonia
कहानी-
कहानी- "हाजरा का बुर्क़ा ढीला है"
Dr Tabassum Jahan
*छप्पन पत्ते पेड़ के, हम भी उनमें एक (कुंडलिया)*
*छप्पन पत्ते पेड़ के, हम भी उनमें एक (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
सविनय निवेदन
सविनय निवेदन
कृष्णकांत गुर्जर
मैं चाहता हूँ अब
मैं चाहता हूँ अब
gurudeenverma198
विश्वास किसी पर इतना करो
विश्वास किसी पर इतना करो
नेताम आर सी
आत्मा की शांति
आत्मा की शांति
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
उम्मीद से अधिक मिलना भी आदमी में घमंड का भाव पैदा करता है !
Babli Jha
उपहार उसी को
उपहार उसी को
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
सिर घमंडी का नीचे झुका रह गया।
सिर घमंडी का नीचे झुका रह गया।
सत्य कुमार प्रेमी
कुश्ती दंगल
कुश्ती दंगल
मनोज कर्ण
एक उम्र बहानों में गुजरी,
एक उम्र बहानों में गुजरी,
पूर्वार्थ
👌आभास👌
👌आभास👌
*Author प्रणय प्रभात*
ईश्वर की कृपा
ईश्वर की कृपा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हृद्-कामना....
हृद्-कामना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
Dr arun kumar shastri
Dr arun kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आजादी..
आजादी..
Harminder Kaur
When the ways of this world are, but
When the ways of this world are, but
Dhriti Mishra
गीत गा रहा फागुन
गीत गा रहा फागुन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मां
मां
Irshad Aatif
* फागुन की मस्ती *
* फागुन की मस्ती *
surenderpal vaidya
झाँका जो इंसान में,
झाँका जो इंसान में,
sushil sarna
राम वन गमन हो गया
राम वन गमन हो गया
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...