Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Apr 2023 · 1 min read

सांझा चूल्हा4

सांझा चूल्हा जल रहा है क्या गजब की बात है।
प्यार का गुलशन खिल रहा है क्या गलब की बात है

मंदिर पर बैठी है चिड़िया आई मस्जिद घूमकर।
कितनी बातें कर रही हैं इस दुनियां को देखकर ।।
दुनियां कितनी बदल रही है क्या गजब की बात है।

पंडित के घर बेटी आई मुल्ला नाचे झूमकर।
कभी दुलारे कभी खिलाए माथा उसका चूमकर।।
ईद दिवाली मन रही है क्या गजब की बात है।

सबद मधुर हैं गुरुद्वारे के मंदिर में घंटी बज रही।
शमां जली जी गिरजाघर में दुनियां कैसे सज रही।।
वजू बनाके लंगर चक्खा क्या गजब की बात है।

आपस के थे मसले सारे आपस में ही सुलझ गए।
यकीन आया आपस में तो सारी बातें समझ गए।।
भाईचारा बढ़ रहा है क्या गजब की बात है।

नफरत की थीं खड़ी दीवारे प्यार से ही गिर गई।
कुछ हम सुधरे कुछ तुम सुधरे दूरियां भी मिट गईं।।
शिकवे सारे खतम हुए क्या गजब की बात है।
उमेश मेहरा
गाडरवारा एम पी
9479611151

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 794 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कल पर कोई काम न टालें
कल पर कोई काम न टालें
महेश चन्द्र त्रिपाठी
जहाँ से आये हो
जहाँ से आये हो
Dr fauzia Naseem shad
* शक्ति आराधना *
* शक्ति आराधना *
surenderpal vaidya
कान में रखना
कान में रखना
Kanchan verma
व्यथा पेड़ की
व्यथा पेड़ की
विजय कुमार अग्रवाल
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रंग भरी एकादशी
रंग भरी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ईश्वर की महिमा...…..….. देवशयनी एकादशी
ईश्वर की महिमा...…..….. देवशयनी एकादशी
Neeraj Agarwal
जीवन एक यथार्थ
जीवन एक यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
#एड्स_दिवस_पर_विशेष :-
#एड्स_दिवस_पर_विशेष :-
*Author प्रणय प्रभात*
किसान
किसान
Bodhisatva kastooriya
रूह की अभिलाषा🙏
रूह की अभिलाषा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मनुष्यता कोमा में
मनुष्यता कोमा में
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
तुम मेरी किताबो की तरह हो,
Vishal babu (vishu)
आवश्यकता पड़ने पर आपका सहयोग और समर्थन लेकर,आपकी ही बुराई कर
आवश्यकता पड़ने पर आपका सहयोग और समर्थन लेकर,आपकी ही बुराई कर
विमला महरिया मौज
मेरे दिल ❤️ में जितने कोने है,
मेरे दिल ❤️ में जितने कोने है,
शिव प्रताप लोधी
दर्द
दर्द
Satish Srijan
*बहुत सौभाग्यशाली कोई, पुस्तक खोल पढ़ता है (मुक्तक)*
*बहुत सौभाग्यशाली कोई, पुस्तक खोल पढ़ता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
काव्य की आत्मा और अलंकार +रमेशराज
कवि रमेशराज
कब तक अंधेरा रहेगा
कब तक अंधेरा रहेगा
Vaishaligoel
जय भगतसिंह
जय भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
कड़वा सच
कड़वा सच
Sanjeev Kumar mishra
तुम न जाने कितने सवाल करते हो।
तुम न जाने कितने सवाल करते हो।
Swami Ganganiya
भारत चाँद पर छाया हैं…
भारत चाँद पर छाया हैं…
शांतिलाल सोनी
मुकाम
मुकाम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जीयो
जीयो
Sanjay ' शून्य'
3002.*पूर्णिका*
3002.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तू जाएगा मुझे छोड़ कर तो ये दर्द सह भी लेगे
तू जाएगा मुझे छोड़ कर तो ये दर्द सह भी लेगे
कृष्णकांत गुर्जर
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
🌳😥प्रकृति की वेदना😥🌳
SPK Sachin Lodhi
नजरिया-ए-नील पदम्
नजरिया-ए-नील पदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...