Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Dec 2023 · 1 min read

*सहकारी युग हिंदी साप्ताहिक के प्रारंभिक पंद्रह वर्ष*

सहकारी युग हिंदी साप्ताहिक के प्रारंभिक पंद्रह वर्ष
🪴🪴🪴🪴🪴🪴🪴🪴
लेखक : रवि प्रकाश
🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂🍂
समस्त सामग्री फेसबुक/ साहित्यपीडिया पर उपलब्ध है।
🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃🍃
एक गहन शोध कार्य जिसमें वर्ष-वार सहकारी युग की फाइलों का अध्ययन करते हुए विभिन्न गतिविधियों, विचारों और प्रवृत्तियों का विश्लेषण तथा विवरण प्रस्तुत किया गया है।
15 अगस्त 1959 में रामपुर उत्तर प्रदेश से महेंद्र प्रसाद गुप्त द्वारा शुरू किए गए इस अखबार ने पचास से अधिक वर्ष तक हिंदी साहित्य-विचार संसार को आलोकित किया। महेंद्र जी की साफ सुथरी भाषा, साहित्यिक अभिरुचि, निर्भीक चिंतन और निर्लोभी प्रवृत्ति के कारण देश के साप्ताहिक पत्रों में इसने एक अलग पहचान बना ली । विष्णु प्रभाकर, डॉ. उर्मिलेश, डॉ. कुॅंअर बेचैन आदि भारत के शीर्ष साहित्यकार इस पत्र के साथ निरंतर जुड़े रहे। क्रांतिकारी मन्मथ नाथ गुप्त को अतिथि संपादक के रूप में प्राप्त करने का गौरव पत्र को प्राप्त है।

192 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
भारत
भारत
Bodhisatva kastooriya
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
बेटी नहीं उपहार हैं खुशियों का संसार हैं
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
निश्छल प्रेम
निश्छल प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बहना तू सबला बन 🙏🙏
बहना तू सबला बन 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*Awakening of dreams*
*Awakening of dreams*
Poonam Matia
बहरों तक के कान खड़े हैं,
बहरों तक के कान खड़े हैं,
*प्रणय प्रभात*
निदा फाज़ली का एक शेर है
निदा फाज़ली का एक शेर है
Sonu sugandh
अनमोल जीवन
अनमोल जीवन
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"बिन स्याही के कलम "
Pushpraj Anant
जिसकी शाख़ों पर रहे पत्ते नहीं..
जिसकी शाख़ों पर रहे पत्ते नहीं..
Shweta Soni
हुकुम की नई हिदायत है
हुकुम की नई हिदायत है
Ajay Mishra
परमात्मा
परमात्मा
ओंकार मिश्र
ग्रीष्म ऋतु --
ग्रीष्म ऋतु --
Seema Garg
हर एक चेहरा निहारता
हर एक चेहरा निहारता
goutam shaw
"फसलों के राग"
Dr. Kishan tandon kranti
करवाचौथ
करवाचौथ
Satish Srijan
सूरज नमी निचोड़े / (नवगीत)
सूरज नमी निचोड़े / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शायरी - गुल सा तू तेरा साथ ख़ुशबू सा - संदीप ठाकुर
शायरी - गुल सा तू तेरा साथ ख़ुशबू सा - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
हम अपनी आवारगी से डरते हैं
Surinder blackpen
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
National YOUTH Day
National YOUTH Day
Tushar Jagawat
23/190.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/190.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Confession
Confession
Vedha Singh
सारे ही चेहरे कातिल है।
सारे ही चेहरे कातिल है।
Taj Mohammad
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
बंदिशें
बंदिशें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पतंग
पतंग
अलका 'भारती'
हाल मियां।
हाल मियां।
Acharya Rama Nand Mandal
हाई स्कूल की परीक्षा सम्मान सहित उत्तीर्ण
हाई स्कूल की परीक्षा सम्मान सहित उत्तीर्ण
Ravi Prakash
लोग चाहे इश्क़ को दें नाम कोई
लोग चाहे इश्क़ को दें नाम कोई
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...