Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2016 · 1 min read

सवैया किरीट (मुरलीधर)

किरीट सवैया
चूनर छीन गयो कित मोहन, ढूंढत हूँ तुझको मुरलीधर
बांह मरोरत गागर फोड़त, आज उलाहन दूँ जसुदा घर
बोलत बाल सखा घर भीतर, श्याम रहो इत ही नट नागर
दर्शन पाकर धन्य भई अब रीझ गई प्रभु हे करुणाकर।

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Like · 787 Views
You may also like:
हिल गया इंडिया
Shekhar Chandra Mitra
योग दिवस पर कुछ दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सपनों का महल
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
"मत कर तू पैसा पैसा"
Dr Meenu Poonia
बहारन (भोजपुरी कहानी) (प्रतियोगिता के लिए)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जानती हूँ मैं की हर बार तुझे लौट कर आना...
Manisha Manjari
सावन का महीना है भरतार
Ram Krishan Rastogi
गरीबक जिनगी (मैथिली कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
जीवन जीत हैं।
Dr.sima
आधुनिकता के इस दौर में संस्कृति से समझौता क्यों
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
बुंदेली दोहा शब्द- थराई
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आया शरद पूर्णिमा की महारास
लक्ष्मी सिंह
दिलों को तोड़ जाए वह कभी आवाज मत होना। जिसे...
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
भारत माँ के वीर सपूत
Kanchan Khanna
क्या होता है पिता
gurudeenverma198
हम दुआएं हर दिल को देते है।
Taj Mohammad
दुनिया जवाब पूछेगी
Swami Ganganiya
जहर कहां से आया
Dr. Rajeev Jain
" समय "
DrLakshman Jha Parimal
Writing Challenge- बारिश (Rain)
Sahityapedia
शेर
dks.lhp
सुविचारों का स्वागत है
नवीन जोशी 'नवल'
लक्ष्मीबाई - सी बनो (कुंडलिया )
Ravi Prakash
✍️मी परत शुन्य होणार नाही..!✍️
'अशांत' शेखर
गीत हरदम प्रेम का सदा गुनगुनाते रहें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमारी आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
गीत - मैं अकेला दीप हूं
Shivkumar Bilagrami
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
जिंदगी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बेवफा अपनों के लिए/Bewfa apno ke liye
Shivraj Anand
Loading...