Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2023 · 1 min read

सर्द ऋतु का हो रहा है आगमन।

सर्द ऋतु का हो रहा है आगमन।
और ठिठुरा जा रहा कोमल बदन।
हो गया है ग्रीष्म का मौसम विदा।
गुनगुनी सी धूप को कर लो नमन।
~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, १८/१०/२०२३

2 Likes · 1 Comment · 137 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
हक़ीक़त ने
हक़ीक़त ने
Dr fauzia Naseem shad
लटक गयी डालियां
लटक गयी डालियां
ashok babu mahour
*कैसे  बताएँ  कैसे जताएँ*
*कैसे बताएँ कैसे जताएँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
रिश्तों में जान बनेगी तब, निज पहचान बनेगी।
रिश्तों में जान बनेगी तब, निज पहचान बनेगी।
आर.एस. 'प्रीतम'
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो पढ़ना जरूर ।
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो पढ़ना जरूर ।
Rajesh vyas
आज इंसान के चेहरे पर चेहरे,
आज इंसान के चेहरे पर चेहरे,
Neeraj Agarwal
औरों की उम्मीदों में
औरों की उम्मीदों में
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
जीवन में जीत से ज्यादा सीख हार से मिलती है।
जीवन में जीत से ज्यादा सीख हार से मिलती है।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ आस्था की अनुभूति...
■ आस्था की अनुभूति...
*Author प्रणय प्रभात*
*भारत माता को किया, किसने लहूलुहान (कुंडलिया)*
*भारत माता को किया, किसने लहूलुहान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ख़ामोश निगाहें
ख़ामोश निगाहें
Surinder blackpen
शराब
शराब
RAKESH RAKESH
एक दिवाली ऐसी भी।
एक दिवाली ऐसी भी।
Manisha Manjari
दीवारों की चुप्पी में
दीवारों की चुप्पी में
Sangeeta Beniwal
हिंदुस्तानी है हम सारे
हिंदुस्तानी है हम सारे
Manjhii Masti
फनकार
फनकार
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
संवाद होना चाहिए
संवाद होना चाहिए
संजय कुमार संजू
गर्मी
गर्मी
Ranjeet kumar patre
दोस्ती का रिश्ता
दोस्ती का रिश्ता
विजय कुमार अग्रवाल
" ये धरती है अपनी...
VEDANTA PATEL
💐अज्ञात के प्रति-127💐
💐अज्ञात के प्रति-127💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
गुजरे हुए वक्त की स्याही से
Karishma Shah
महाड़ सत्याग्रह
महाड़ सत्याग्रह
Shekhar Chandra Mitra
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
Sadhavi Sonarkar
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
संवेदना ही सौन्दर्य है
संवेदना ही सौन्दर्य है
Ritu Asooja
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
Neelam Sharma
ज़िन्दगी नाम है चलते रहने का।
ज़िन्दगी नाम है चलते रहने का।
Taj Mohammad
...........,,
...........,,
शेखर सिंह
Loading...