Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2022 · 1 min read

सर्दी का मौसम

सर्दी का मौसम
************
ठिठुर रहे हैं बदन,ठिठुर रहे हैं जज्बात,
इस घनी सर्दी में,कुछ कहते हैं जज्बात
कैसे काटे सर्दी का मौसम पूछे है सब,
मिले कोई साथी,फिर गर्म होगे जज्बात।

इस सर्दी में रजाई से भी बात नही बनती,
हीटर जलाओ फिर भी बात नही बनती,
पूछे सभी इस सर्दी से कैसे राहत पाए,
जब तक कोई साथी न हो बात नही बनती।

प्रेमिको को सरदी लगी कांप रहा है गात,
सारे ठंडे पड़ गए उसके भी अब जज्बात,
कैसे गर्म करे वह अब इन ठंडे जज्बातों को
गर्म हो जाए ठंडी रातों में उसका अब गात।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 266 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
"कबड्डी"
Dr. Kishan tandon kranti
बाट का बटोही कर्मपथ का राही🦶🛤️🏜️
बाट का बटोही कर्मपथ का राही🦶🛤️🏜️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
World Earth Day
World Earth Day
Tushar Jagawat
कहने को तो बहुत लोग होते है
कहने को तो बहुत लोग होते है
रुचि शर्मा
सूर्य तम दलकर रहेगा...
सूर्य तम दलकर रहेगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
जो भी पाना है उसको खोना है
जो भी पाना है उसको खोना है
Shweta Soni
భరత మాతకు వందనం
భరత మాతకు వందనం
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
Kishore Nigam
बेरोजगारी के धरातल पर
बेरोजगारी के धरातल पर
Rahul Singh
नववर्ष
नववर्ष
Neeraj Agarwal
मेहनत कर तू फल होगा
मेहनत कर तू फल होगा
Anamika Tiwari 'annpurna '
बह्र-2122 1212 22 फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ैलुन काफ़िया -ऐ रदीफ़ -हैं
बह्र-2122 1212 22 फ़ाइलातुन मुफ़ाइलुन फ़ैलुन काफ़िया -ऐ रदीफ़ -हैं
Neelam Sharma
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
मां इससे ज्यादा क्या चहिए
विकास शुक्ल
मोहब्बतों की डोर से बँधे हैं
मोहब्बतों की डोर से बँधे हैं
Ritu Asooja
संघर्ष और निर्माण
संघर्ष और निर्माण
नेताम आर सी
* प्रभु राम के *
* प्रभु राम के *
surenderpal vaidya
जिंदगी,
जिंदगी,
हिमांशु Kulshrestha
"ईद-मिलन" हास्य रचना
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
जीवन है
जीवन है
Dr fauzia Naseem shad
सब कुछ मिट गया
सब कुछ मिट गया
Madhuyanka Raj
कभी-कभी ऐसा लगता है
कभी-कभी ऐसा लगता है
Suryakant Dwivedi
Quote...
Quote...
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अच्छे   बल्लेबाज  हैं,  गेंदबाज   दमदार।
अच्छे बल्लेबाज हैं, गेंदबाज दमदार।
गुमनाम 'बाबा'
हमको
हमको
Divya Mishra
मेरी कलम से बिखरी स्याही कभी गुनगुनाएंगे,
मेरी कलम से बिखरी स्याही कभी गुनगुनाएंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2394.पूर्णिका
2394.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बात खो गई
बात खो गई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelofar Khan
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
काम चलता रहता निर्द्वंद्व
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...